Home » कल्चर » coincidence-after-499-years-on-diwali
 

Diwali 2020: इस दिवाली 499 साल बाद बना तीन ग्रहों का दुर्लभ संयोग, जानिए किसका शुरू होगा अच्छा समय

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2020, 13:54 IST

Diwali 2020: कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाने वाला त्यौहार दिवाली इस साल 14 नवंबर को है. इस साल ग्रहों के अद्भुत संयोग बन रहा है. दिवाली पर धन और ज्ञान का कारक बृहस्पति ग्रह अपनी स्वराशि धनु और शनि अपनी स्वराशि मकर में रहेगा. जबकि शुक्र ग्रह कन्या राशि में रहेगा. ज्योतिषों के मुताबिक दिवाली पर ये संयोग 499 साल बाद बन रहा है.ऐसी स्थिति 1521 में देखी गई थी.

इसके अलावा ये भी एक बड़ा संयोग बन रहा है कि दिवाली और नरक चतुदर्शी एक ही दिन होगी. नरक चतुदर्शी को लोग छोटी दिवाली भी कहते हैं. इसका शुभ मुहूर्त सुबह 5:23 से सुबह 6:43 बजे तक रहेगा. इस तिथि को नरक चतुर्दशी के साथ दिवाली भी मनाई जाएगी. नरक चतुदर्शी 1 बजकर 16 मिनट तक रहेगी. इसके बाद अमावस्या तिथि शुरू हो जाएगी. जो अगले दिन यानि 15 नवंबर की सुबह 10 बजे तक रहेगा.


Bhai Dooj 2020: इस दिन है भाईदूज, जानिए पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

 

ज्योतिषियों के मुताबिक वृषभ, कर्क, तुला और कुंभ राशि के जातकों के लिए ये समय काफी शुभ रहने वाला है. जबकि मिथुन, सिंह और कन्या राशि के जातकों को थोड़ा संभलकर रहना होगा.दिवाली में विशेष रूप से माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है. दिवाली साल के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है. रोशनी और रंगों का ये त्यौहार बहुत सारी खुशियां और उत्साह लेकर आता है.

इस त्यौहार के दिन हम भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं. दिवाली पर भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी का घर में स्वागत करना शुभ माना जाता है. मान्यता है कि दिवाली में मां लक्ष्मी का आगमन होता है.

इस दिन हनुमान जी, यमराज, चित्रगुप्त, कुबेर, भैरव, कुलदेवता और पितरों का पूजन जरूर करें. मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु का भी पूजन करें. पूजा के वक्त श्री सूक्त का पाठ करें. आप विषणुसहस्त्रनाम, गोपाल सहस्त्रनाम का पाठ भी कर सकते हैं.

Dhanteras 2020: इस धनतेरस नहीं खरीद पा रहे सोना तो ना हो परेशान, इन चीजों की खरीददारी से भी आती है धन-समृद्धि

First published: 9 November 2020, 13:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी