Home » कल्चर » Dhanteras 2017: Importance And Significance Of Dhanteras diwali 2017
 

धनतेरस 2017: जानें क्या खरीदने से होगा धन लाभ आैर पूजा का शुभ मुहूर्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 October 2017, 14:01 IST

धनतेरस और दिवाली को लेकर लोगों ने तैयारियां शुरू कर दी है. इस बार धनतेरस 17 अक्टूबर को है तो वहीं दिवाली 19 अक्टूबर को मनाई जाएगी. धनतेरस पर खरीदारी करना शुभ माना जाता है. लेकिन इस दिन क्या खरीदना सबसे ज्यादा शुभ होता है, जिन्हें खरीदकर आपके घर में धन और संपन्नता आएगी.

माना जाता है कि धनतेरस के दिन ही भगवान धन्वंतरी समुद्र मंथन के दौरान अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे. इस दिन पीतल खरीदना शुभ होता है. पीतल को भगवान धन्वंतरी की धातु माना जाता है. पीतल खरीदने से घर में अरोग्य, सौभाग्य और स्वास्थ्य का वास होता है.

चांदी: धनतेरस के दिन चांदी खरीदने से भाग्य प्रबल होता है. घर में धन और समृद्धि भी बढ़ती है. इस दिन घर पर धातु का सामान लाने से कारोबार में वृद्धि होती है और लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है. दिवाली पर पूजा के लिए धनतेरस के दिन ही भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की मूर्ति लाना चाहिए. माना जाता है कि ऐसा करने से घर धन धान्य से भरा रहता है और आर्थिक संकट दूर हो जाता है.

भगवान कुबेर की पूजा: धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा का बहुत महत्व है. इस दिन कुबेर की तस्वीर खरीदकर लाएं और उसे घर में उत्तर दिशा में स्थापित करें. ऐसा करने से कारोबार पर कभी भी कमी नहीं आएगी. धनतेरस पर शंख खरीदना भी अत्यंत शुभ है. शंख को घर में लाकर भगवान के पास रखें और रोज इसे बजाएं. शास्त्रों के अनुसार, जिस घर में रोज पूजा में शंख बजाया जाता है, इस घर पर कभी भी मुसीबत नहीं आती.

कौड़ियां: माना जाता है कि मां लक्ष्मी को कौड़ियां बहुत पसंद है. धनतेरस पर कौड़ियां लाकर उन्हें पूजा स्थल पर रखें और अन्य देवताओं के साथ इनकी भी पूजा करें. दिवाली के दिन इनकी पूजा करने के बाद इसे एक लाल कपड़े में बांधकर अपने धन स्थल या तिजोरी में रख दें. ऐसा करने से घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती.

साबुत धनिया खरीदें: इस दिन साबुत धनिया जरूर खरीदें और इन्हें अपने गार्डन में या किसी गमले में बो दें. इनकी देखभाल रोज करें. माना जाता है कि जिस घर में धनिया जितना उगेगा उतनी ही घर पर कृपा बरसेगी. धनतेरस पर झाड़ू खरीदना भी शुभ है. इस दिन झाड़ू खरीदकर लाने से दरिद्रता और नकारत्मक ऊर्जा दूर चली जाती है.

आइए जानते हैं धनतेरह पर क्‍या है पूजा का मुहूर्त

धनतेरस पर पूजा का समय - 19:32 अपराह्न से 20:18 बजे तक
प्रदोष काल –17:49 बजे से 20:18 अपराह्न
वृषभ काल - 19:32 अपराह्न से 21:33 बजे तक
17 अक्‍टूबर, 2017 को त्रयोदशी तिथि सुबह 12 बजकर 26 मिनट पर शुरू होगी.
18 अक्‍टूबर, 2017 को त्रयोदशी तिथि सुबह 8 बजे समाप्‍त होगी.
सूर्योदय के बाद शुरू होने वाले प्रदोषकाल के दौरान लक्ष्मी पूजा की जानी चाहिए.

First published: 16 October 2017, 14:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी