Home » कल्चर » Gandhi Jayanti 2018: Know About Mahatma Gandi Quotes Which He Followed Entire His Life
 

ये हैं महात्मा गांधी के वो अनमोल वचन, जिन्हें उम्रभर निभाते रहे बापू और दिला दी भारत को आजादी

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 October 2018, 12:22 IST

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर नामक स्थान पर हुआ था. गांधी जी भारत के स्वतंत्रता संघर्ष के सूत्रधार कहलाए जाते हैं. महात्मा गांधी का संपूर्ण जीवन इस बात का जीता जागता प्रमाण है कि एक साधारण व्यक्ति कितना असाधारण हो सकता है.

राष्ट्रपिता का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था, लेकिन भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में उनकी सशक्त भूमिका ने न सिर्फ भारत बल्कि पूरी दुनिया में उनके प्रति आदर और प्रेम भर दिया. इसलिए लोग उन्हें प्यार से बापू कहने लगे. उसके बाद पूरी दुुनिया उन्हें आज भी बापू कहकर बुलाती है.

महात्मा गांधी राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे. ये सत्याग्रह के माध्यम से अत्याचार के प्रतिकार के अग्रणी नेता थे, उनकी इस अवधारणा की नींव सम्पूर्ण अहिंसा के सिद्धान्त पर रखी गयी थी जिसने भारत को आजादी दिलाकर पूरी दुनिया में जनता के नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता के प्रति आन्दोलन के लिये प्रेरित किया. हर साल 2 अक्टूबर को उनका जन्मदिन भारत में गांधी जयंती के रूप में और पूरे विश्व में अन्तरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है.

गांधी जयंती के मौके पर आज हम आपको बापू के कुछ ऐसे अनमोल वचनों से आपको रूबरू कराने जा रहे हैं, जिनको पालन राष्ट्रपिता ताउम्र करते रहे. उन्होंने हिंसा के सहारे नहीं बल्कि अहिंसा के बल पर भारत की आजादी की लड़ाई लड़ी और हिन्दुस्तान को आजादी दिलाई.

File Photo

1. आप मुझे जंजीरों में जकड़ सकते हैं, यातना दे सकते हैं, यहाँ तक की आप इस शरीर को नष्ट कर सकते हैं, लेकिन आप कभी मेरे विचारों को कैद नहीं कर सकते.

2. थोड़ा सा अभ्यास बहुत सारे उपदेशों से बेहतर है

राष्ट्रपिता का कहना था कि हमें उपदेशों से ज्यादा अपने काम पर ध्यान देना चाहिए. इसीलिए उन्होंने कहा थोड़ा सा अभ्यास बहुत सारे उपदेशों से बेहतर है.

3. खुद वो बदलाव बनिये जो आप दुनिया में देखना चाहते हैं

गांधी जी का कहना था कि दूसरों की जगह खुद ही वो काम करना शुरु कर दें जिसे आप किसी अन्य से कराना चाहते हैं. इसीलिए उन्होंने कहा, खुद वो बदलाव बनिये जो आप दुनिया में देखना चाहते हैं.

4. भगवान का कोई धर्म नहीं है

उनका कहना था कि धर्म के नाम पर लड़ने वाले नहीं जानते कि भगवान का कोई धर्म नहीं है. जिसके लिए सब एक-दूसरे से लड़ते रहते हैं.

5. मौन सबसे सशक्त भाषण है. धीरे-धीरे दुनिया आपको सुनेगी

गांधी जी का कहना है था कि मौन सबसे सशक्त भाषण है. धीरे-धीरे दुनिया आपको सुनेगी. क्योंकि वो अहिंसा का लगातार विरोध करते रहे.

File Photo

6. आप तब तक यह नहीं समझ पाते कि आपके लिए कौन महत्त्वपूर्ण है जब तक आप उन्हें वास्तव में खो नहीं देते.

7. विश्व के सभी धर्म, भले ही और चीजों में अंतर रखते हों, लेकिन सभी इस बात पर एकमत हैं कि दुनिया में कुछ नहीं बस सत्य जीवित रहता है.

8. सत्य एक है, मार्ग कई

9. खुशी तब मिलेगी जब आप जो सोचते हैं, जो कहते हैं और जो करते हैं, सामंजस्य में हों.

10. व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित एक प्राणी है, वह जो सोचता है वही बन जाता है. 

File Photo

11. क्रोध को जीतने में मौन सबसे अधिक सहायक है

12. क्रोध और असहिष्णुता सही समझ के दुश्मन हैं.

13. जब भी आपका सामना किसी विरोधी से हो, उसे प्रेम से जीतें.

14. आंख के बदले में आंख पूरे विश्व को अंधा बना देगी

गांधी जी कहा करते थे कि हमें वो काम नहीं करने चाहिए जिनसे दूसरे आपको परेशान करते हैं. इसी लिए गांधी जी कहा करते थे कि आंख के बदले में आंख पूरे विश्व को अंधा बना देगी.

15. जब तक गलती करने की स्वतंत्रता ना हो तब तक स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं है.

File Photo

16. किसी चीज में यकीन करना और उसे ना जीना बेईमानी है 

17. ऐसे जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले हो. ऐसे सीखो की तुम हमेशा के लिए जीने वाले हो. 

18. विश्वास को हमेशा तर्क से तौलना चाहिए. जब विश्वास अंधा हो जाता है तो वो मर जाता है. 

19. पाप से घृणा करो, पापी से प्रेम करो

20. मेरा जीवन मेरा सन्देश है

First published: 1 October 2018, 12:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी