Home » कल्चर » google makes doodle on first woman photojournalis homai vyarawalla tedu birthday
 

गूगल ने भारत की पहली महिला फोटो पत्रकार का बनाया डूडल

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 December 2017, 12:28 IST
(google )

सर्च इंजन गूगल ने भारत की पहली महिला फोटोग्राफर होमी व्यारावाला को अपने अनोखे अंदाज में याद किया है. गूगल ने इस मौके पर होमी व्यारावाला का डूडल बनाया है. हम आपको बता दें कि शनिवार को होमी व्यारवाला का 104वां जन्मदिन है. पारसी परिवार में जन्मी होमी व्याराल्ला का जन्म गुजरात में 9 दिसंबर 1913 को हुआ था. 

होमी व्यारवाला के पिता पारसी उर्दू थियेटर में अभिनय करते थे. कहा जाता है कि उन्होंने सबसे पहले फोटोग्राफी अपने दोस्त मासे नेकशां व्यारवाला से सीखी. इसके बाद वो इसकी और पढ़ाई के लिए जेजे स्कूल ऑफ आर्ट गईं. उस समय किसी महिला का इस फील्ड में उतरना आश्चर्य से कम नहीं था. 

होमी व्यारावाला ने साल 1930 में फोटोग्राफी के फील्ड में एंट्री ली. दूसरे विश्व युद्ध के शुरू होने पर  होमी ने बॉम्बे स्थित 'The Illustrated Weekly of India' पत्रिका के लिए काम किया. शुरु में उनकी तस्वीरें उनके पति के नाम पर प्रकाशित की जाती थीं.

उनकी पहली तस्‍वीर बॉम्‍बे क्रोनिकल में प्रकाशित हुई. बाद में वो अपने पति के साथ मुंबई से दिल्‍ली आ गईं. उन्होंने 1970 में पेशेवर पत्रकारिता को अलविदा कह दिया. भारत सरकार ने उन्हें साल 2011 पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया. इलेस्‍ट्रेटिड वीकली ऑफ इंडिया मैगजीन में उनके कई चित्र प्रकाशित हुए. इन चित्रों ने उस समय खासी सुर्खिया बटोरीं.

होमी व्यारवाला ने अपने कैमरे में देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से लेकर माउंटबेटेन और दलाई लामा के भारत में प्रवेश की तस्वीरें खींची. इसके अलावा 1947 को लाल किले पर पहली बार फहराये गए तिरंगे, भारत से लॉर्ड माउंटबेटेन के जाने की तस्वीरें, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और लाल बहादुर शास्त्री की अंतिम यात्रा के कई यादगार फोटो लिए.

साल 1970 में पति की मौत के बाद वो अपने बेटे फारूक के साथ वडोदरा में बस गईं. कैंसर की बीमारी के कारण 15 जनवरी 2012 में पहली महिला फोटोग्राफर का निधन हो गया.

First published: 9 December 2017, 10:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी