Home » कल्चर » Hariyali Teej 2020: Do and Don'ts during Fast
 

Hariyali Teej 2020: हरियाली तीज व्रत के दौरान इन बातों का रखें ख्याल, भूलकर भी ना करें ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 July 2020, 17:46 IST

Hariyali Teej 2020: हरियाली तीज श्रावण के पवित्र महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि मनाया जाता है. इस साल 23 जुलाई 2020 दिन गुरुवार को हरियाली तीज मनाई जाएगी. हरियाली तीज के दिन विवाहित महिलाओं श्रृंगार करके माता पार्वती की पूजा करती है और अपने अखंड सौभाग्य की कामना करती हैं. हरियाली तीज के दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती है.

मान्यात है कि हरियाली तीज के लिए विवाहित महिलाओं के मायके से श्रृंगार के सामान, घेवर आदि आता है. इस दिन महिलाएं एक जगह एकत्रित होती हैं जहां वो मेंहदी लगाती हैं, लोक गीत गाती हैं और झूला झूलती हैं. वहीं शाम के समय विवाहित महिलाएं 16 श्रृंगार करके माता पार्वती एवं भगवान भोलेनाथ की आराधना करती हैं. हालांकि, महिलाओं को इस दौरान कुछ बातों का भी ख्याल रखना चाहिए, ताकि उनका व्रत किसी भी कारण से प्रभावित ना हो.

हरियाली तीज के दिन विवाहित महिलाएं अपनी पति की दीर्घायु, सेहतमंद और खुशहाली के लिए हरे रंग की चूड़ियां पहनती हैं. इस दिन महिलाएं हर रंग का प्रमुखता से इस्तेमाल करती हैं.

मान्यता है कि हरियाली तीज के दिन महिलाएं जो श्रृंगार करती हैं, वो उनके मायके से आता है.

हरियाली तीज के दिन निर्जला व्रत रखा जाता है लेकिन जो महिलाएं गर्भवति हैं या फिर जो बीमार हैं उनके लिए जरूरी नहीं कि वो व्रत रखें, वो उस स्थान पर रह सकती हैं, जहां महिलाएं एकत्रित होती हैं और पूजा में शामिल हो सकती है.

हरियाली तीज के दिन सफेद और काले वस्त्रों का प्रायोग वर्जित है.

धार्मिक मान्यता है कि हरियाली तीज के दिन माता पार्वती के गाने, कथा, कहानियां सुनना चाहिए.

हिंदु धर्म में माता पार्वती को प्रकृति का स्वरुप माना गया है, ऐसे में व्रत रखने वाली महिलाओं को भूलकर भी किसी भी प्रकार से प्रकृति या पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए.

अगर कोई ऐसा हो जो किसी कारणवश व्रत नहीं रख पाता है तो उसे व्रत रखकर खुद को परेशानी में नहीं डालना चाहिए.

Hariyali Teej 2020 : हरियाली तीज में गर्भवती महिलाएं भूलकर भी न रखें निर्जला व्रत, इन बातों का रखें ख्याल

First published: 22 July 2020, 17:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी