Home » कल्चर » holi 2020: bizarre Holi Traditions in India
 

Holi 2020: कहीं बिच्छू तो कहीं अस्थियों के साथ खेलने की हैं परंपरा, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 March 2020, 16:39 IST

होली (Holi 2020) भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है. रंगो के इस त्योहार को पूरे देश विदेश में लोग बेदह की उत्साह के साथ मनाते है. इस साल होली 9 और 10 मार्च की है. 10 मार्च को लोग एक दूसरे को रंग लगाएंगे जबकि 9 मार्च को होलिका दहन होगा. भारत को विविधता का देश कहा जाता है और जब बात होली की आती है तो यह विविधता यहां पर भी देखी जाती है.हम आपको ऐसी ही कुछ अजबो गरीब तरह से खेली जाने वाली होली के बारे में बता रहे हैं.

अस्थियों से खेली जाती है होली

वाराणसी में होली की एक प्राचीन परंपरा है जो आपको बहुत चौंका सकती है. परंपरा के अनुसार लोग श्मशान घाट की राख का प्रयोग करते हैं और उन्हें रंगों में मिलाकर होली खेलते है. जो लोग इस परंपरा का पालन करते हैं उनका मानना है कि मृत्यु का भय नहीं है, बल्कि इसे मोक्ष के मार्ग के रूप में देखा जाना चाहिए. इस प्रकार वे इस परंपरा के बाद इस विश्वास को मजबूत करना चाहते हैं.

कुमाऊँ की खादी होली

भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी कई लोग खादी का प्रयोग करते है. वहीं उत्तारखण्ड के कुमाऊँ क्षेत्र में इसी खादी से जुड़ी एक परपंरा है जिसका लोग होली के दिन पालन करते है. होली के दिन ग्रामीण लोग होली पर आधारित गीत गाते और नाचते हैं, लोग छोटे समूह बनाते हैं सफेद कुर्ता-पायजामा पहनते हैं.

बिच्छू के साथ खेलते हैं लोग

उत्तर प्रदेश के इटावा में एक गाँव है जिसे सौताना के नाम से जाना जाता है. होली की पूर्व संध्या पर इस गांव के लोग बिच्छू पकड़ते हैं. बिच्छू को उसके बिल से बाहर निकालने के लिए ड्रमों को पीटते हैं. जब बिच्छू अपने बिल से बाहर आता है तब लोग उसे पकड़ते हैं और उसे अपने शरीर के अलग अलग भागों पर रखते है. आश्चर्यजनक रूप से आज तक इस गांव से इस दौरान एक भी व्यक्ति को बिच्छू के काटने मामला सामने नहीं आया है.

 Holi 2020: होली पर रखें खास ध्यान, कोरोनावायरस से कहीं फीका न पड़ जाए आपका त्योहार

First published: 4 March 2020, 15:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी