Home » कल्चर » How can you stop teenagers from smoking & drinking, tells study
 

No Tobacco Day: जानिए कैसे रोकें अपने बच्चों को धूम्रपान से

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 31 May 2017, 12:51 IST

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका टीनेजर बेटा-बेटी नशे से दूर रहे तो यह खबर आपके काफी काम आ सकती है. एक नए शोध में पता चला है कि किशोर उम्र के अपने बच्चों को खुश रखने से उन्हें शराब-धूम्रपान की लत से दूर रखा जा सकता है.

यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन द्वारा किए गए शोध में यह खुलासा हुआ है कि सबसे कम खुश रहने वाले स्कूली बच्चों में शराब-सिगरेट की लत लगने की संभावना तकरीबन दोगुनी होती है.

लेकिन वे बच्चे जो अपने परिवार, मित्रों और जिंदगी से ज्यादा संतुष्ट होते हैं उनमें 16 साल से पहले यह नशे की लत लगने की संभावना 25 फीसदी तक कम होती है.

शोधकर्ताओं का कहना है कि वयस्कों की ही तरह बच्चे भी शराब को ज्यादा प्रसन्नता देने वाला और कम चिंता देने वाला ड्रिंक समझ लेते हैं.

इस शोध में 10-15 आयु तक के 1,729 बच्चों को शामिल किया गया. इन पर किए अध्ययन से पता चला कि जो बच्चे पहले से खुश थे उन्हें किसी अतिरिक्त मदद की जरूरत नहीं थी, जबकि 10 फीसदी से भी कम के नियमित ड्रिंकर-स्मोकर बनने की संभावना थी.

शोध के प्रमुख लेखक और यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन के इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड हेल्थ के डॉ. नॉरिको केबल ने कहा, "हमारी सोच के आधार पर जो बच्चे दोस्तों, स्कूलों, घरों समेत जीवन के सभी पहलुओं पर खुश रहने वाले बच्चों के पास ड्रिंक (शराब सेवन) का कोई कारण नहीं होता. उन्हें भावनात्मक रूप में किसी कमी को पूरा करने के लिए किसी चीज की जरूरत नहीं होती. स्मोकिंग (धूम्रपान) के लिए भी यही नियम लागू होता है."

इस शोध के आंकड़े ब्रिटेन के घरेलू अध्ययन पर आधारित हैं, जिनमें बच्चों से पूछा गया कि वे सामान्य रूप से स्कूल में प्रदर्शन, लुक्स, दोस्त, परिवार, स्कूल और जिंदगी में अपनी खुशी को कितने अंक देते हैं.

शोधकर्ताओं ने पाया कि जो सबसे ज्यादा खुश थे, उनमें सिगरेट-शराब अपनाने की संभावना 10.8 फीसदी थी. जबकि जो सबसे कम खुश थे उनमें इसकी संभावना दोगुनी होकर 21.5 फीसदी मिली.

अगर इस शोध के नतीजों को सही मानें तो इसका सीधा सा मतलब निकलता है कि मां-बाप और परिजनों के साथ ही स्कूलों को चाहिए कि वे अपने बच्चों को खुश रखने की हर संभव कोशिश करें, ताकि देश का भविष्य नशे के हाथों में जाने से बच जाए.

First published: 25 May 2017, 16:37 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

अगली कहानी