Home » कल्चर » if children-are-deviating-from-their-studies-then-follow-these-vastu-tips
 

अगर आपके बच्चे का नहीं लगता पढ़ाई में मन, तो स्टडी रूम में करें ये उपाय

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 November 2020, 12:59 IST

अक्सर कई बार ऐसा होता है कि बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगता है. उनका ध्यान भटक जाता है. जिसके चलते बच्चों के माता पिता चिंता में रहते हैं. उनकी इस चिंता का हल वास्तु शास्त्र में भी मिल सकता है. जी हां कुछ वास्तु टिप्स को आजमा कर आप अपने बच्चों की पढ़ाई और भविष्य से जुड़ी इन दिक्कतों से छुटकारा पा सकती हैं. चलिए बताते हैं आपको इनसे जुड़े कुछ वास्तु टिप्स.

यदि आप चाहते हैं कि आपके बच्चे का मन पढ़ाई में लगे तो आप उसके स्टडी रूम पूर्व, उत्तर दिशा या फिर ईशान कोण में बनाना चाहिए.


वहीं अगर पहले से ही स्टडी रूम पश्चिम दिशा में बना हुआ है तो ये सुनिश्चित करें कि बच्चा पूर्व दिशा की ओर मुंह करके पढ़ाई करें. इससे बच्चों को काफी लाभ मिलेगा.

इसके अलावा छात्रों को दक्षिण या पश्चिम की ओऱ सिर करके सोना चाहिए.वास्तु की माने तो पश्चिम में सिर करके सोने से पढ़ने की इच्छा और भी मजबूत होती है.

इसके अलावा इस बात का ध्यान दें कि बच्चे के स्टडी रूम में सूर्य की रोशनी पूरी तरह से आती हो. कहते हैं कि सूर्य की रोशनी से निगेटिव एनर्जी का नाश होता है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है.

छात्रों के लिए सकारात्मक ऊर्जा की बहुत ही जरूरत होती है. इसलिए कोशिश करें कि कमरे में सूर्य की किरणों का प्रवेश हों और सुबह के वक्त कमरे की खिड़कियां खोलकर रखी जाए.

गलती से भी घर की इस दिशा में नहीं रखना चाहिए कूड़ादान, भुगतना पड़ सकता है नुकसान!

इसी के साथ आप बच्चों के कमरे में मां सरस्वती की तस्वीर लगाएं. तस्वीर ऐसी जगह लगाएं जहां पढ़ने के दौरान आप उसे देख सकें. वहीं पढ़ाई से पहले बुद्धि व बल की प्रार्थना करनी चाहिए.यदि आपके बच्चे को पढ़ाई के नाम पर ही आलस आ जाता है. तो स्टडी रूम में हरे रंग का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करें. दीवारों का रंग या फिर पर्दों का रंग, स्टडी टेबल का रंग हरा रखा जा सकता है.

Chhath Puja 2020 : छठ के त्यौहार पर करे ये काम, पूरी होती हैं सभी मनोकामनाएं

First published: 20 November 2020, 12:59 IST
 
अगली कहानी