Home » कल्चर » If you want to fulfill your new year resolution, start these 9 simple tips from now
 

'न्यू ईयर रिजोल्यूशन' पूरा करना चाहते हैं तो अभी से अपनाएं यह तरीका

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 December 2016, 17:38 IST

नया साल आने में अब कुछ ही दिन बचे हैं और हर गुजरते साल की तरह इस बार भी तमाम लोगों की न्यू ईयर रिजोल्यूशन (नए साल के संकल्प) लेने की योजनाएं होंगी. हालांकि नए साल के संकल्प लेने वालों में से बमुश्किल 10 फीसदी ही इसे पूरा कर पाते हैं. लोग इसे पूरा क्यों नहीं कर पाते शायद यह एक रहस्य ही है.

लेकिन बाकी के 90 फीसदी क्या अपने संकल्प के प्रति गंभीर नहीं होते या फिर वे सिर्फ फैशन या दिखावे के लिए ही संकल्प लेते हैं, यह हकीकत नहीं है. संकल्प लेने वाला हर व्यक्ति इसे पूरा करने के बारे में सोचता तो है लेकिन तमाम वजहों से इस पर टिक नहीं पाता.

खैर कोई बात नहीं अगर अगले साल के शुरू होने के साथ आप भी कोई संकल्प लेने की सोच रहे हैं और चाहते हैं कि इस पर टिके रहें तो हम आपको इसका शानदार तरीका बताने जा रहे हैं. 

माइंडसेट योर मैनर्स की लेखिका और न्यूरोसाइंटिस्ट निकोल ग्रेवैग्ना की मानें तो उन्हें इसका कारण पता है और तरीका भी पता है जिसे ध्यान में रखकर अपने नए साल के संकल्प को पूरा किया जा सकता है.

वजन घटाने या फिटनेस का न्यू ईयर रिजोल्यूशन लेने वालों का उदाहरण देते हुए निकोल ग्रेवैग्ना समझाती हैं कि इसके लिए आपको टाइट कपड़े जरूर पहनने चाहिए और लोगों से भरे कमरे में वर्क आउट करना चाहिए. हालांकि लोग ऐसा नहीं करते हैं क्योंकि उन्हें यह असहज लगता है.

इसके लिए निकोल का कहना है कि सबसे पहले जरूरी है कि आप खुद को सहज महसूस करना शुरू कर दें.

निकोल के मुताबिक, "अपने जीवन में महत्वपूर्ण बदलाव लाने के लिए, जब आप कहते हैं कि आप खुद को फिट बनाना चाहते हैं, परिवार के साथ ज्यादा वक्त बिताना चाहते हैं या फिर बेहतर नौकरी चाहते हैं तो इसके लिए आपको इस बात की गहराई या मूल वजह समझनी पड़ेगी. यानी इन बातों का आपके लिए क्या मतलब है?"

निकोल ने इसके लिए एक गाइड तैयार की ताकि आप जान सकें कि हकीकत में आप चाहते क्या हैं, इसके बाद ही आप अपनी ख्वाहिश को पूरा करने की दिशा में जरूरी बदलाव कर सकेंगे और उन पर टिके रहेंगे.

9 स्टेप गाइड

  1. आप अपने जीवन में जो भी बदलाव चाहते हैं उसे कहीं लिखें या जोर से चिल्लाएं.
  2. उस बदलाव का आपके जीवन में क्या मतलब या महत्व है ये भी लिखें या चिल्लाएं. उदाहरण के तौर पर मानें कि फिटनेस का आपके जीवन में क्या महत्व है.
  3. इसके बाद इस महत्व से जुड़ी जरूरी वजह के बारे में सोचें. जैसे फिटनेस को पूरा करने के लिए इसके पीछे छिपी वजह यानी आराम छोड़ना बहुत जरूरी है. इसलिए 'आराम' से खुद के रिश्ते के बारे में सोचना होगा. 
  4. अब खुद से पूछिए कि क्या आप इस छिपी हुई वजह से अपने संबंध को बदलने के लिए के लिए तैयार हैं. जैसे क्या आप आराम से अपने रिश्ते बदलने के लिए तैयार हैं? संभवता इसका जवाब ना में ही होगा.
  5. अब खुद से बहस करें. जब आप स्वयं से तर्क देते हैं, अपनी पुरानी रुचि के बचाव में उतरते हैं, सिर-हाथ हिलाते हैं, तो इसका मतलब कि आप बदलाव के लिए तैयार हैं लेकिन आपका दिमाग पुरानी बातों को लेकर तैयार नहीं है. आगे बढ़िए, खुद से बातचीत जारी रखिए. इस प्रक्रिया में इनकार होना एक तर्कसंगत कदम है.
  6. आगे बढ़िए और इस बहस से जुड़े पुराने दुखों, परेशानियों और गुस्से को महसूस कीजिए. संभवता आप किसी पुराने शरीर थकाने वाले किस्से को याद करेंगे. ऐसा होने दीजिए. इसे महसूस कीजिए. जैसे ही आप इसे महसूस करेंगे, वो पुरानी आदत संभवता खत्म होने लगेगी.
  7. यह पूरी प्रक्रिया कुछ घंटों या कुछ सप्ताह में पूरी हो जाएगी. पूर्णतया बदलाव कुछ वक्त ले सकता है. धैर्य रखिए और आपके आगे बढ़ने का जो संदेश दिमाग भेज रहा है उसे ध्यान में रखते हुए पुरानी बहस और भावनाओं को याद करिए. जब भी कुछ नया लगे या खुद से नई बहस हो तो अपने दिमाग से कहिए बहुत बढ़िया. इस बहस से डरें नहीं और इसे बुरा सपना समझकर भुला दें.
  8. एक निर्धारित अंतराल के बाद ऊपर के चार चरणों को दोहराते रहें. 
  9. जब क्या आप जो बदलाव चाहते हैं उसके पीछे छिपी वजह से आपका रिश्ता बदलने के लिए आप पूरी तरह तैयार हो गए हैं, का 'हां' में जवाब मिलने लगे और यह तार्किक लगें तो आप इस बदलाव को पूरी तरह अपनाने के लिए तैयार हो चुके हैं. और इसके साथ ही आपने इस बदलाव को स्वीकार करते हुए अपनाना शुरू भी कर दिया है.

First published: 21 December 2016, 17:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी