Home » कल्चर » International Womens Day 2019: Clara Zetkin is behind making special to 8 march
 

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस: जानिए कौन हैं क्लारा जेटकिन जिन्होंने 8 मार्च को बना दिया खास

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2019, 16:16 IST

International Womens Day 2019: 8 मार्च को विश्व की प्रत्येक महिलाओं के सम्मान के लिए उत्सव के रूप में महिला दिवस मनाया जाता है. इस दिन कीर्तिमान स्थापित कर चुकीं महिलाओं को सम्मानित भी किया जाता है. महिलाओं को सम्मान, बढ़ावा, सुरक्षा देना ही सही मायने में महिला दिवस मनाना है. 

क्या आप जानते हैं कि महिला दिवस मनाने का आइडिया एक औरत का था. आज से तकरीबन 110 साल पहले साल 1910 में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत हुई थी. इसका आइडिया क्लारा जेटकिन नामक महिला का था. वह मार्क्सवादी चिंतक और सामाजिक कार्यकर्ता थीं. महिलाओं के अधिकारों के सवाल पर वह लगातार सक्रिय रहीं. 

 

दरअसल, साल 1910 में डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में कामकाजी औरतों की एक इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस आयोजित हुई. इसी कॉन्फ्रेंस में क्लारा जेटकिन ने पहली बार इंटरनेशनल वुमेन्स डे मनाने का सुझाव दिया. तब कॉन्फ्रेंस में करीब 17 देशों की 100 से अधिक महिलाएं मौजूद थीं. सभी ने क्लारा के इस सुझाव का समर्थन किया. 

साल 1911 में सबसे पहले ऑस्ट्रिया, डेनमार्क, जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया. जब क्लारा ने महिला दिवस मनाने का सुझाव दिया था, तब उन्होंने कोई दिन या तारीख नहीं दिया था.

 

साल 1917 की बोल्शेविक क्रांति के दौरान रूस की महिलाओं ने ब्रेड एंड पीस की मांग की. दबाव के कारण ने वहां के सम्राट निकोलस को पद छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा. घटना के फलस्वरूप वहां की अंतरिम सरकार ने महिलाओं को मतदान का अधिकार दिया. तब रूस में जूलियन कैलेंडर का प्रयोग होता था.

जूलियन कैलेंडर के अनुसार जिस दिन महिलाओं ने हड़ताल शुरू की थी वो तारीख 23 फरवरी थी. वहीं ग्रेगेरियन कैलेंडर में यह दिन 8 मार्च था और उसी के बाद से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को मनाया जाने लगा.

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को संयुक्त राष्ट्र संघ ने आधिकारिक मान्यता साल 1975 में दी थी. संयुक्त राष्ट्र ने इसे वार्षिक तौर पर एक थीम के साथ मनाना शुरू किया था. बता दें कि हर साल अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की एक थीम होती है. पहले महिला दिवस की थीम थी 'सेलीब्रेटिंग द पास्ट, प्लानिंग फॉर द फ्यूचर.'

First published: 6 March 2019, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी