Home » कल्चर » International Womens Day 2020: Women UPSC Topper in last one decade including Tina Dabi Ira Inghal and Nandini KR
 

Women's Day 2020: इन महिलाओं ने पास की देश की सबसे मुश्किल परीक्षा, UPSC टॉपर बन पूरा किया सपना

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 March 2020, 14:11 IST

International Womens Day 2020: आज के दिन यानी 8 मार्च को पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है. महिला दिवस (Women's Day) की शुरुआत आज से 112 साल पहले की गई थी, जब अमेरिका के शहर न्यूयॉर्क में करीब 15 हजार महिलाएं अपने अधिकारों पुरुषों के समान बराबरी के लिए सड़कों पर उतर आई थीं. 1908 में हुए इस आंदोलन ने न सिर्फ दुनियाभर की महिलाओं को बराबरी का हद दिलाया बल्कि सब ने महिलाओं की ताकत को भी समझा.

उस वक्त इस आंदोलन में शामिल हुई महिलाओं ने काम के कम घंटों, बेहतर सैलरी और वोटिंग के अधिकारों की मांग को लेकर प्रदर्शन किया था. उसके बाद अमेरिका की सोशलिस्ट पार्टी ने सबसे पहले राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की घोषणा की थी. आज दुनियाभर की महिलाएं पुरुषों के साथ कंथे से कंथा मिलाकर चल रही हैं और दुनिया को अपनी ताकत दिखा रही है.

महिला दिवस के इस मौके पर आज हम आपको भारत की कुछ ऐसी महिलाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने देश की सबसे बड़ी और मुश्किल परीक्षा को न सिर्फ पास किया बल्कि उसमें टॉप भी किया. दरअसल, हम बात कर रहे हैं संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की आईएस (IAS) परीक्षा के बारे में. जिसमें महिलाओं ने कामयाबी के झंड़े तो गाड़े ही साथ ही पुरुषों को पछाड़कर पहला स्थान भी हासिल किया. इस कड़ी में सबसे पहले बात करते हैं निरुपमा रॉय की.

जिन्होंने साल 1973 में संघ लोक सेवा आयोग की आईएएस परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया था. निरुपमा रॉय ने साल 1973 में देश की सबसे प्रतिष्ठित यूपीएससी परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया था. अब वह रिटायर हो चुकी हैं. उन्होंने अपनी सेवा के दौरान कई देशों में राजदूत की जिम्मेदारी निभाई. वह देश की दूसरी महिला विदेश सचिव रही. उन्हें अमेरिका, चीन पेरू में भारत सरकार ने राजदूत नियुक्ति किया था.

विजयलक्ष्मी बिदारी- UPSC Topper- 2000

विजयलक्ष्मी बिदारी ने संघ लोक सेवा आयोग की आईएएस परीक्षा में साल 2000 में टॉप किया. छह लोगों के उनके परिवार में उन समेत पांच आईएएस ऑफिसर हैं. उनके पति मल्लिकार्जुन प्रसन्ना आईपीएस अधिकारी है. उनके पिता शंकर महादेव बिदारी भी भारतीय पुलिस सेवा 1978 बैच के IPS हैं. उनकी मां डॉक्टर हैं. विजयलक्ष्मी के परिवार में उनकी मां ही एक ऐसे शख्स है जो आईएएस ऑफिसर नहीं हैं. उनके भाई विजयेंद्र बिदारी भी आईपीएस ऑफिसर हैं. उनकी भाभी रोहिनी पी भाजीभाकरे भी आईएएस अधिकारी है. विजयलक्ष्मी ने साल 1999 में कम्प्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग की परीक्षा पास की थी. उसके बाद करीब दर्जनभर कंपनियों में नौकरी भी की.

Nirupama Rao

रूपा मिश्रा- IAS Topper-2003

रूपा मिश्रा ओड़िशा की पहली ऐसी महिला हैं जिन्होंने यूपीएसपी की आईएएस परीक्षा में पहली रैंक हासिल की. वह साल 2003 की संघ लोक सेवा आयोग की आईएएस परीक्षा की टॉपर हैं. साल 1977 में जन्मी रूपा मिश्रा की स्कूलिंग भुवनेश्वर और कटक में हुई. उनके पिता दंदानिरोध मिश्रा भी एक ब्यूरोक्रेट थे. रूपा का कहना है कि हमेशा बड़े सपने देखे छोटे सपने खुद ब खुद पूरे हो जाएंगे.

मोना पृथी- IAS Topper-2005

हरियाणा में जन्मी मोना पृथी ने IAS परीक्षा 2005 में पहला स्थान हासिल किया था. उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन कॉलेज से अंग्रेजी ऑनर्स किया. उसके बाद उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से ही एम.फिल किया. मोना पृथी ने करीब तीन साल तक दिल्ली के महाराजा अग्रसेन कॉलेज में अंग्रेजी के टीचर के रूप में अपनी सेवाएं दी. इसी दौरान उन्होंने यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा दी. उनके वैकल्पिक विषय अंग्रेजी साहित्य और समाजशास्त्र थे.

Roopa Mishra

शुभ्रा सक्सेना- IAS Topper- 2008

उत्तर प्रदेश की बरेली में जन्मी शुभ्रा सक्सेना ने साल 2008 की आईएएस परीक्षा में टॉप किया था. उन्होंने आईआईटी रुड़की से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में बीटेक किया. उसके बाद उन्होंने कुछ साल तक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी की और उसके बाद सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरु कर दी. लोगों को सीधी सेवा देने की प्रेरणा ने शुभ्रा सक्सेना को इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़कर सिविल सेवा में जाने के लिए प्रेरित किया और उसमें पहला स्थान हासिल किया. शुभ्रा सक्सेना वर्तमान में रायबरेली की जिलाधिकारी हैं. उन्होंने मनोविज्ञान और लोक प्रशासन को सिविल सेवा परीक्षा के वैकल्पिक विषय के रूप में चुना था.

शीना अग्रवाल- IAS Topper-2011

हरियाणा के यमुनानगर में पैदा हुई शीना अग्रवाल ने साल 2011 में सिविल सेवा परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल किया. उन्होंने दिल्ली के एम्स से एमबीबीएस की परीक्षा पास की. लेकिन जमीन से जुड़कर लोगों की सेवा करने के जज्बे ने उन्हें आईएएस अधिकारी बना दिया. शीना अग्रवा ने सिविल सेवा परीक्षा में वैकल्पिक विषयों के रूप में मेडिकल साइंस और साइकोलॉजी का चयन किया था. उन्होंने तीसरी कोशिश में आईएएस की परीक्षा उत्तीण की और टॉपर बन गईं.

Shena Aggarwal

हरिता वी कुमार- IAS Topper- 2012

हरिता वी कुमार ने IAS परीक्षा 2012 में प्रथम रैंक हासिल की थी. हरिता वी कुमार , केरल के नेय्याट्टिक्कारा नामक एक छोटे शहर से हैं और उन्होंने वैकल्पिक विषयों के रूप में अर्थशास्त्र और मलयालम साहित्य के साथ परीक्षा पास की. IAS के सपने को साकार के लिए, उन्होंने एचसीएल टेक्नोलॉजीज की नौकरी की पेशकश को मना कर दिया. चयन के समय, वह एक प्रशिक्षु आईपीएस अधिकारी थीं.

इरा सिंघल- IAS Topper- 2014

इरा सिंघल विशेष श्रेय के योग्य हैं क्योंकि वह एक दिव्यांग है. उन्होंने IAS परीक्षा 2014 में शीर्ष स्थान हासिल किया था. इरा सिंघल ने वैकल्पिक विषय के रूप में भूगोल के साथ परीक्षा दी. वह दिल्ली की रहने वाली हैं और उन्होंने कम्प्यूटर साइंस में बीटेक किया है. उसके बाद एमबीए कर एक बड़ी कंपनी में नौकरी की. जब उन्होंने आईएएस की परीक्षा में टॉप किया उस वक्त वह एक आईआरएस अधिकारी थीं.

Ira Singhal

टीना डाबी- IAS Topper- 2015

टीना डाबी ने साल 2015 की सिविल सेवा परीक्षा में शीर्ष स्थान हासिल किया. दिल्ली में पली-बढ़ी टीना के माता-पिता इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस में हैं. उन्होंने केवल 22 साल की उम्र में आईएएस परीक्षा में टॉप किया. दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्रीराम कॉलेज से पॉलिटिकल साइंस में ग्रेजुएट टीना डाबी अपने कॉलेज की भी टॉपर रही हैं. उन्होंने राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय के साथ मुख्य परीक्षा दी थी.

नंदिनी केआर- IAS Topper- 2016

कर्नाटक की रहने वाली नंदिनी केआर ने साल 2016 में यूपीएसपी की परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल किया था. उन्होंने बैंगलूरू से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक किया. इससे पहले वह साल 2014 में भी सिविल सेवा परीक्षा के लिए चयनित हुई थी. तब उन्हें 849वीं रैंक हासिल हुई थी और उन्हें आईआरएस कैडर मिला था. जब उन्होंने आईएएस में टॉप किया तब वह फरीदाबाद में ट्रेनिंग ले रही थीं. उन्होंने वैकल्पिक विषय के रूप में कन्नड साहित्य का चयन किया.

TIME की सदी की 100 सबसे प्रभावशाली महिलाओं की सूची में इंदिरा गांधी और अमृत कौर का नाम

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस: इस लेडी ने 8 मार्च को बना दिया खास, संघर्षों की कहानी जानकर करेंगे सलाम

Holi 2020: होली की अजीब पंरपरा, अंग्रेजों पर गुस्सा निकालने के लिए ‘लाट साहब’ को जूता मारते हैं लोग, खेलते हैं जूता-मार होली

First published: 8 March 2020, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी