Home » कल्चर » kartik-maas-2020-date-niyam-for-prosperity
 

Kartik Maas 2020: कार्तिक महीने में करें इन नियमों का पालन, नहीं होगी कभी पैसों की तंगी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 November 2020, 12:56 IST

Kartik Maas 2020: हिंदू धर्म में कार्तिक मास को एक पवित्र महीना माना जाता है. पौराणिक और प्राचीन ग्रंथों में कार्तिक मास में व्रत और तप का विशेष महत्व बताया गया है. मान्यता है कि जो व्यक्ति कार्तिक मास में व्रत, तप करता है उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है. साथ ही देव तत्व भी मजबूत होते हैं. ये महीना 30 नवंबर तक रहेगा.

कार्तिक मास भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है. इस महीने विष्णु योग निद्रा से जागते हैं और सृष्टि में आनंद और कृपा की वर्षा होती है. इस महीने में मां लक्ष्मी धरती पर भ्रमण करती हैं और भक्तों को अपार धन देती हैं. मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए ही इस महीने धन त्रयोदशी, दीपावली और गोपाष्टमी मनाई जाती हैं. इस महीने पूजा करने से पैसों से जुड़ी परेशानियां खत्म हो जाती है.


पुराणों के मुताबिक इस महीने सात नियम का पालन करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है.चलिए बताते हैं आपको कौन से हैं वो सात नियम.

दीपदान- इस महीने घर के एक कोने में दीपक जलाया जाता है. इस महीने दीपदान और दान करने से अक्षय शुभ फल की प्राप्ति होती है.

तुलसी पूजा- कार्तिक के महीने में तुलसी पूजन, रोपण और सेवन करने का विशेष महत्व बताया गया है. कार्तिक मास में तुलसी पूजा का महत्व कई गुना बढ़ जाता है. ऐसा करने से विवाह से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाती हैं.

भूमि का सोना- कार्तिक मास भूमि पर सोना भी एक प्रमुख नियम माना गया है. कहा जाता है कि मन में सात्विकता का भाव आता है तथा अन्य विकार भी समाप्त हो जाते हैं.

तेल लगाना वर्जित-इस महीने तेल लगाने की मनाही होती है. इस महीने सिर्फ एक बार नरक चतुर्दशी के दिन ही शरीर पर तेल लगाना चाहिए.

कार्तिक महीने में द्विदलन यानी उड़द, मूंग, मसूर, चना, मटर, राई खाने पर भी मनाही होती है. इस महीने में दोपहर में भी सोने से मना किया जाता है.

इस महीने ब्रह्मचर्य का पालन अति आवश्यक बताया गया है. कहा जाता है कि जो इसका पालन नहीं करते उन्हें अशुभ फल मिलते हैं.

इसके साथ ही कार्तिक मास का व्रत करने वालों के साथ ही तपस्वियों के समान व्यवहार करना चाहिए. इस में महीने कम बोलें, किसी की निंदा ना करें, मन पर संयम रखें.

First published: 11 November 2020, 12:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी