Home » कल्चर » marigold flower is used in worship
 

पूजा में गेंदे का फूल ही क्यों किया जाता है इस्तेमाल, ये है कारण

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 February 2021, 14:52 IST

आपने अक्सर देखा होगा कि गेंदे के फूल का प्रयोग खूब किया जाता है और कई सारे भगवानों को ये फूल अर्पित किया जाता है. इसके अलावा किसी भी धार्मिक कार्य के दौरान भी इस फूल का प्रयोग अवश्य होता है और घर को इसी फूल से सजाया जाता है. लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा कि आखिर किस वजह से इस फूल का प्रयोग पूजा और धार्मिक कार्य के दौरान किया जाता है.

कहा जाता है कि देवी-देवताओं को ये फूल काफी प्रिय है, इसलिए इस फूल का प्रयोग पूजा के दौरान ज्यादा किया जाता है. इस फूल का रंग केसरिया होता है और ये रंग हिंदू धर्म से जुड़ा हुआ है. कारण है कि इस फूल की माला भगवान को अधिक चढ़ाई जाती है. इसी के साथ केसरिया रंग त्याग और मोह-माया को भी दर्शाता है.


अंडमान की वो जनजातियां जिनसे दूर रहते हैं लोग! देखते ही मार देते हैं तीर

 

इसके अलावा गेंदे ही एकमात्र ऐसा फूल है. जो अपनी एक छोटी सी पत्ती के सहारे भी उग जाता है. इस फूल का ये गुण आत्मा की खासियत को दर्शाता है. जैसे आत्मा कभी नहीं मरती है, वो बस शरीर बदलती है और अलग अळग रूपों में फिर जिंदा हो जाती है.इस फूल को पवित्र माना गया है. जिसकी वजह से पूजा के दौरान इसका प्रयोग किया जाता है.

दरअसल शास्त्रों में भगवान को केवल पवित्र चीजें चढ़ाने का उल्लेख किया गया है. इसलिए भगवान को ये फूल चढ़ाया जाता है.गेंदे के फूल को पूजा के दौरान बिना किसी डर के इस्तेमाल किया जा सकता है. लेकिन ये फूल अर्पित करते समय आप कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें.

अगर आपके वैवाहिक जीवन में हैं कलह, तो अपनाएं गुरुवार के ये अचूक उपाय

First published: 25 February 2021, 14:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी