Home » कल्चर » Mauni Amavasya 2019: these things can lead to evil spirits, do not go such places
 

मौनी अमावस्या के दिन भूल भी न करें ये काम, खुशियों में लग जाएगा बुरी आत्माओं का ग्रहण

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 February 2019, 12:31 IST

मौनी अमावस्या के दिन को हिन्दू माइथोलॉजी में बहुत अहम माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि आज के दिन गंगा स्नान करने से मनुष्य को पापों से मुक्ति मिल जाती है. कहा जाता है कि मौनी अमावस्या के दिन मौन रहकर गंगा स्नान करने से और परंपराओं के हिसाब से आचरण करने से मनचाहे फल की प्राप्ति होती है. हालांकि आज के दिन कुछ ऐसे काम करने वर्जित हैं जिनसे व्यक्ति को नुकसान हो सकता है.

ऐसी मान्यता है कि मौनी अमावस्या के दिन बुरी आत्माएं सक्रिय रहती हैं, ऐसे में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए नहीं तो ये व्यक्ति कोे काफी नुकसान पहुंचा सकती हैं. शास्त्रों में कहा गया है कि आज के दिन बुरी आत्माओं के प्रभाव से बचने के लिए कब्रिस्तान या श्मशान घाट के आस-पास से नहीं गुजरना चाहिए.

ऐसा कहा जाता है कि आज का दिन बहुत शुभ होता है. आज के दिन सुबह जल्दी उठ कर सबसे पहले नहाना चाहिए फिर उसके बाद ही कुछ खाना चाहिए.

आज के दिन के बारे में गरुण पुराण में बताया गया है कि मौनी अमावस्या के दिन यदि दम्पति संबंध बनाते हैं तो ऐसे जन्मे बच्चों को जीवन में कभी भी सिख की प्राप्ति नहीं होती है. अाज के दिन को मौन यानी शांति का स्वरुप समझा जाता है. इसलिए आज के दिन कहा जाता है कि व्यक्ति को अपने घर के आस पास शांति बनाए रखने की कोशिश करनी चाहिए.

 

मौनी अमावस्या के दिन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है स्नान करना. आज के दी गंगा स्नान का अत्यधिक महत्त्व है.लेकिन किसी कारण से जो लोग गंगा या पवित्र नदियों में स्नान के लिए नहीं जा पाते हैं उन्हें पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान करना चाहिए. आज के दिन कहा जाता है कि स्नान के पहले मौन रहना चाहिए. मौनी अमावस्या के दिन किसी भी प्रकार का नशा, मांस-मदिरा का सेवन वर्जित है.

First published: 4 February 2019, 12:31 IST
 
अगली कहानी