Home » कल्चर » muslim woman leads friday prayers in mosque first time in india, women imam in india, imam zamida, indian muslim, mallapuram
 

इतिहास में पहली बार एक मुस्लिम महिला ने किया कुछ ऐसा कि कट्टरपंथी दे रहे हैं धमकियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 January 2018, 12:51 IST

कौन हैं जमीदा

34 वर्षीय जमीदा मल्लापुरम के कुरान सुन्नत सोसायटी की महासचिव हैं. सूत्रों के मुताबिक जमीदा ने जुमा को होने वाली नमाज में इमाम की भूमिका में महिलाओं सहित करीब 80 लोगों को नमाज पढाई. जमीदा ने कहा कि पवित्र कुरान मर्द और औरत में कोई भेदभाव नहीं करता है और इस्लाम में महिलाओं के इमाम बनने पर कोई रोक नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘पहली बार हमारे देश के इतिहास में कोई महिला जुमा की नमाज की अगुवाई कर रही है. यह हमारी सोसायटी के केंद्रीय समिति कार्यालय में हुई. जहां हम नमाज के लिए हर शुक्रवार को इकट्ठा होते हैं.’’

जमीदा को मिल रही धमकियां

वहीं जमीदा के नमाज पढ़ाए जाने के बाद उन्हें तमाम धमकियां मिल रही हैं. जमीदा के मुताबिक उन्हें मस्जिद समितियों की ओर से उन्हें धमकिया दी जा रही हैं कि उन्होंने इस्लाम की तौहीन की है जिसका खामियाजा उन्हें उठाना पड़ेगा. जमीदा के अनुसार सोशल मीडिया में भी लोग उनको ट्रोल करते हुए लिख रहे हैं कि तुमने सुन्नत के खिलाफ जाकर मस्जिद में नमाज पढ़ी. वहीं कुछ लोग कह रहे हैं कि उन्होंने नमाज की इमामत कर इस्लाम को बर्बाद करने का काम किया है.

First published: 28 January 2018, 12:52 IST
 
अगली कहानी