Home » कल्चर » Navratri- Ramnavmi 2017: Date, mahurat, Significance and mantras
 

नवरात्रि 2017: जानें पूजा का शुभ मुहूर्त आैर अखंड ज्योति जलाने के पीछे छिपा रहस्य

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 March 2017, 9:33 IST
Chaitra Navaratri

आज से शुरू होने वाले हैं चैत्र नवरात्रि के दिन मां भगवती की पूजा कर उनसे सुख-समृद्धि की कामना करना बहुत अच्छा होता है. नवरात्रि के पहले दिन की जाती है मां शैलपुत्री की पूजा और घट स्थापना. मां भगवती दुर्गा का कृपा पाने के लिए विधि विधान से नौ दिन तक दुर्गा देवी पूजन-अर्चना करनी चाहिए.

कलश स्थापना की शुभ मुहूर्त: 
कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त: कलश स्थापना सुबह साढ़े आठ बजे के बाद कर सकते हैं. अभिजीत मुहूर्त्त मध्यान्ह 11:35 बजे से 12:23 तक रहेगा. इस प्रकार प्रतिपदा 28 मार्च को दिन में 8 बजकर 26 मिनट पर शुरु होगी. 5 अप्रैल 2017 दिन बुधवार को दोपहर दिन में 12:50 बजे तक ही नवरात्र होगा,उसके बाद दशमी तिथि लग जाएगी.

क्यों जलाते हैं अखंड ज्योति: 
नवरात्र‍ि के नौ दिन मां की आराधना के लिए विशेष होते हैं. कई घरों, धार्मिक स्थानों एवं संस्थानों पर मां के नाम की अखंड ज्योत भी जलाई जाती है, जो नौ दिनों तक निरंत जलती रहती है. आखिर क्यों जलाई जाती है.

नवरात्र‍ि के नौ दिन मां की आराधना के लिए विशेष होते हैं. कई घरों, धार्मिक स्थानों एवं संस्थानों पर मां के नाम की अखंड ज्योत भी जलाई जाती है, जो नौ दिनों तक निरंत जलती रहती है. नवरात्र में विद्यार्थियों के लिए घी का दीपक जलाना शुभ रहता है. शनि के कुप्रभाव से मुक्ति के लिए तिल्ली के तेल की अखंड ज्योति शुभ मानी जाती है.

First published: 28 March 2017, 8:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी