Home » कल्चर » New research on alcohol reveals various emotional dependency on different drinks
 

वाइन पीनें के बाद खुद को सेक्सी मानते हैं लोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 November 2017, 20:05 IST

क्या आपको पता है कि विभिन्न तरह की शराब का सेवन लोगों में अलग-अलग भावनाएं पैदा करता है. यानी हार्ड ड्रिंक्स पीने के बाद लोगों को अलग फीलिंग आती है तो स्पिरिट्स पीने वाले कुछ सेक्सी सा महसूस करते हैं. मादक पदार्थों के इंसानी भावनाओं पर किए गए अब तक के सबसे बड़े अध्ययन में ऐसी चौंकाने वाली बाते सामने आईं हैं.

जैसे अगर आप किसी थकान भरे दिन के बाद आराम महसूस करना चाहते हैं, तो बेहतर है कि वाइन या बीयर का सेवन करें. जबकि स्पिरिट्स (कम अल्कोहल की मात्रा वाली ड्रिंक) का सेवन उस दिन करें, जिस दिन आप अधिक आत्मविश्वासी या सेक्सी महसूस करना चाहते हैं.

इस अध्ययन में 18 से 34 साल की उम्र के करीब 30,000 वयस्क शामिल हुए. इस अध्ययन में करीब 59 फीसदी प्रतिभागियों ने स्पिरिट्स जैसे वोदका, जिन, व्हिस्की और अन्य हार्ड अल्कोहल को पीने के बाद ऊर्जा, आत्मविश्वास महसूस करने की बात कही. वहीं, 10 में 4 प्रतिभागियों ने इन्हें पीने के बाद खुद को सेक्सी महसूस करने की बात कही.

यह अध्ययन बीएमजे ओपेन जर्नल में प्रकाशित किया गया है. हालांकि केवल 20 फीसदी प्रतिभागियों ने ही स्पिरिट्स ड्रिंक्स पीने के बाद आराम महसूस करने की बात कही.

मनोभावनाओं पर सबसे ज्यादा असर हार्ड ड्रिंक डालता है, जिसमें रेड वाइन (53 फीसदी) और उसके बाद बीयर (50 फीसदी) है. स्पिरिट्स पीने से जहां मन से नकारात्मक भावनाएं अन्य मादक पदार्थ पीने की अपेक्षा अधिक दूर होती है, इसे पीने वाले करीब 30 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे आक्रामकता आती है, जबकि रेड वाइन पीने वाले करीब 2.5 फीसदी लोगों ने ही आक्रामकता की बात कही. 

शराबी लोग अल्कोहल पर सकारात्मक भावनाओं को जगाने के लिए बहुत अधिक निर्भर होते हैं

शोधकर्ताओं ने कहा, "अल्कोहल पीने से जुड़ी भावनाओं को समझने से इसके दुरुपयोग को रोकने में मदद मिलेगी, जो आबादी के विभिन्न समूहों के बीच शराब पीने के लिए कौन सी भावनाएं प्रेरित करती है, इसे समझाने में मददगार होगी."

शोध में शराब पर निर्भरता लिंग और श्रेणी के हिसाब से अलग-अलग पाई गई. शोध के परिणाम से पता चला कि पुरुषों में सभी तरह के अल्कोहल से आक्रामकता की भावना जुड़ी होती है, जबकि जो ज्यादा पीनेवाले या शराबी होते हैं, उनमें कम पीने वालों की अपेक्षा शराब पीकर आक्रामकता छह गुनी अधिक आती है.

ज्यादा पीनेवाले किसी एक ड्रिंक से अधिक जुड़े होते हैं जो उनमें आक्रामकता या दुख की भावना जगाती है और चाहे वे घर में हो या बाहर, वे उसी ड्रिंक को पीते हैं.

शोधकर्ताओं ने कहा कि शराबी लोग अल्कोहल पर सकारात्मक भावनाओं को जगाने के लिए बहुत अधिक निर्भर होते हैं. वे पीने के बाद कम पीने वालों की अपेक्षा 5 गुणा अधिक ऊर्जावान महसूस करते हैं.

शोध के सह-लेखक और पॉलिसी, रिसर्च और इंटरनेशनल डेवलपमेंट के पब्लिक हेल्थ वेल्स निदेशक मार्क बेलिस ने कहा, "सदियों से, रम, जिन, वोदका और अन्य स्पिरिट ड्रिंक्स का इतिहास हिंसा से जुड़ा रहा है. इस वैश्विक शोध से पता चलता है कि आज भी स्पिरिट पीने से अन्य ड्रिंक्स की तुलना में आक्रामकता की भावना अधिक आती है."

(डिसक्लेमरः हमारा मकसद मदिरा सेवन का प्रचार करना नहीं है. शराब का सेवन मौत का कारण बन सकता है और इससे बचना चाहिए.) (आईएएनएस इनपुट के साथ)

First published: 23 November 2017, 20:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी