Home » कल्चर » Numerological Predictions for 2018, Know who will be benefitted & what will be good & bad in new year, Health, Wealth, India, World, Weather
 

2018: जानिए आपके लिए कैसा होगा नया साल

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 29 December 2017, 18:22 IST

नया साल आने में अब कम वक्त बचा है और पुराना साल कई अच्छी-बुरी यादें दे चुका है. हर किसी को एक नई सुबह, एक नए साल से कई उम्मीदें होती हैं और अब जब 2018 के आने में देरी नहीं है, तो आने वाला वर्ष आपके लिए क्या खास लेकर आएगा यह जानने की उत्सुकता हर किसी में है.

अंकशास्त्र पर आधारित न्यूमेरोबे कनेक्ट के संस्थापक गौतम आजाद इस बारे में कहते हैं, 2018 कई मायनों में खास वर्ष साबित होने वाला है. इस साल के अंकों का जोड़ 2 (2+0+1+8) आता है और यह चंद्रमा का अंक होता है. इस लिहाज से नया साल उन व्यक्तियों के लिए अच्छा साबित होने वाला है जिनकी जन्मतिथि का जोड़ 1 (1,10,19,29), 2 (2,11,20,29), 4 (4,13,22,31) और 7 (7,16,25) आता है. (अंकों के आगे लिखी संख्या किसी भी माह की तारीखें हैं जिनमें कोई व्यक्ति पैदा हुआ हो.)

इसके अलावा जिन व्यक्तियों की राशि कर्क और सिंह है, उनके लिए भी आने वाला वर्ष बेहतर साबित होगा. इस राशि के लोग अगले वर्ष चमकेंगे. इसके अलावा प्रेमी जोड़ों के लिए भी नया साल काफी अच्छा रहेगा.

गौतम कहते हैं कि जिन व्यक्तियों की जन्म संख्या और उम्र का अंक एक ही है, उनके लिए भी नया साल काफी आयोजनों भरा और अच्छा रहेगा. उदाहरण के रूप में मान लेते हैं किसी व्यक्ति का जन्मांक 3 है यानी वो किसी भी माह की 3, 12, 21, 30 तारीख को पैदा हुआ था, और 2018 में वो अपने जीवन के 12वें, 21वें, 30वें, 39वें, 48वें, 57वें, 66वें, 75वें वर्ष में चल रहे हैं, तो उनके लिए यह साल अच्छा रहेगा.

उठापटक से भरा होगा नया साल

इसके साथ ही गौतम नए साल के अंक 2 के बारे में विस्तार से बताते हुए कहते हैं कि यह चंद्रमा का अंक है. चंद्रमा एक जैसा नहीं रहता और यह पूर्णिमा तक बढ़ता रहता है और फिर अमावस्या तक घटता है. इसका मतलब कि नया साल वैश्विक शांति के मामले में काफी उठापटक वाला रहेगा.

नंबर 11 चिंताजनक होता है यानी कुछ बुरा होने की संभावना का संकेत देता है, खतरनाक और अमंगल जैसा. यह छिपे हुए खतरों, जांच और दूसरों से धोखे की भी चेतावनी देता है. इस 11 अंक का प्रतीक 'बंधे हाथ' (बंधी मुट्ठी) और भूखा शेर और एक व्यक्ति है जिसे सामने आईं कड़ी चुनौतियों से संघर्ष करना है.

इस तरह से यह तय है कि इस नए साल में काफी 'धोखा' और विश्वासघात देखने को मिलेगा. इसे उत्तर कोरिया-अमेरिका या फिर भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे विवाद जैसे वैश्विक परिदृश्य में देखा जाना चाहिए.

चूंकि चंद्रमा दिमाग के दूसरे हिस्से को भी नियंत्रित करता है इसलिए आतंकी हमलों, आंतरिक विश्वासघात और नक्सली वारदातों से भी इनकार नहीं किया जा सकता.

कहां पर बरतनी होगी सावधानी

इस नए साल में व्यक्ति को किसी भी तरह की पार्टनरशिप या नए उद्यम में हाथ आजमाने से पहले भी काफी सावधानी बरतनी चाहिए. चंद्रमा जब सकारात्मक हो तो व्यक्ति रचनात्मक, कल्पनाशील, सहज, भावुक और अनुकूलनीय होता है जबकि इसका नकारात्मक पक्ष व्यक्ति को मूडी, बेचैन और तर्कहीन बनाता है.

पूरी पृथ्वी पर चंद्रमा का प्रभाव है. यहां तक की महासागरों पर भी जो ज्वार-भाटे का कारण बनता है. इसी तरह यह हमारे ऊपर भी काफी प्रभाव डालता है क्योंकि मानव शरीर के अंदर 70 फीसदी हिस्सा पानी होता है. ऐसे में चंद्रमा के प्रभाव से कोई नहीं बच सकता. यही कारण है कि पूर्णिमा के दिन हमें पागलपन के मामले ज्यादा दिखते हैं.

जिस तरह पूर्णिमा के दिन चंद्रमा पानी के स्रोतों पर असर डालता है, उसी तरह यह इस साल आयात-निर्यात के व्यापार को बढ़ाने में भी मदद करेगा. शिपिंग उद्योग इस साल बड़ा बदलाव देखेगा और चमकेगा. इस साल पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में भी बढ़ोतरी होने की संभावना है.

किन लोगों को होगा फायदा

वहीं, चंद्रमा के पानी पर नकारात्मक पहलू के रूप में हम इस साल दुनिया भर में विनाशकारी बाढ़ आती देख सकते हैं. यह वर्ष सबसे ठंडे सालों में से भी एक हो सकता है.

शिक्षा उद्योग, कंसल्टेंसी सेवाएं, सेवा उद्योग और रचनात्मकता से जुड़े व्यवसाय जैसे बॉलीवुड, कला एवं पेंटिंग उतार-चढ़ाव देखेंगे और अच्छा प्रदर्शन करते हुए कारोबार में काफी तरक्की करेंगे.

चांदी इस साल की चमकती धातु है जबकि सोने की कीमतों को झटका लगेगा. ध्यान देने वाली बात है कि जब सूरज चमकता है, चंद्रमा गायब रहता है और जब चंद्रमा चमकता है, सूरज गायब हो जाता है. और यह साल चंद्रमा का है.

यह वर्ष हास्य कलाकारों, प्रचारकों, वक्ताओं, कलाकारों, चित्रकारों और अभिनेताओं के लिए भी शानदार साबित होगा.

(नोटः ऊपर दी गई जानकारी न्यूमेरोलॉजिस्ट गौतम आजाद द्वारा किए गए आंकिक विश्लेषण पर आधारित है. कैच हिंदी इसकी प्रमाणिकता का दावा नहीं करता.)

First published: 29 December 2017, 18:22 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

अगली कहानी