Home » कल्चर » Rajasthan Govt ready to rewrite history Maharana Pratap won the Haldighati battle against Akbar
 

राजस्थान में बदलेगा इतिहास: महाराणा प्रताप ने हल्दीघाटी के युद्ध में अकबर को हराया था !

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2017, 15:32 IST
(INDIA OPINES)

1576 ईसवी में हल्दीघाटी के युद्ध में मुगल बादशाह अकबर की सेना ने मेवाड़ के शासक महाराणा प्रताप की सेना को मात दी थी. अब तक इतिहास में हम यही पढ़ते आए हैं. लेकिन राजस्थान सरकार एक बार फिर नया इतिहास लिखने की फिराक में है. 

मध्यकालीन इतिहास के इस मशहूर युद्ध में अकबर की फौज की कमान उनके सेनापति मान सिंह ने संभाली थी. हालांकि इस युद्ध में राणा प्रताप की वीरता के आज भी चर्चे होते हैं, लेकिन इतिहास में इस लड़ाई का नतीजा मुगल सेना के पक्ष में ही गया था.    

441 साल बीतने के बाद राजस्थान सरकार इस युद्ध में महाराणा प्रताप को विजयी घोषित करने की तैयारी कर रही है. ज़्यादातर इतिहासकार इस कदम को ग़लत करार दे रहे हैं, लेकिन लगता है कि राजस्थान की बीजेपी सरकार अकबर और महाराणा प्रताप की महानता पर जंग छेड़ने के बाद अब युद्ध का नतीजा भी उलटने वाली है. 

बीजेपी विधायक का सुझाव

इससे पहले शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने किताबों में अकबर महान का पाठ हटाने के सुझाव पर भी राजस्थान में घमासान मचा था. 

राज्य सरकार ने पिछले साल दो उच्चस्तरीय निकायों, राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान को पहली से आठवीं और राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को नवीं से बारहवीं कक्षा के पाठ्यक्रम को फिर से तैयार करने के लिए कहा था.

अब जयपुर से भाजपा विधायक मोहनलाल गुप्ता का एक सुझाव विवाद की नई वजह बनता दिख रहा है. बीजेपी विधायक ने सुझाया है कि यूनिवर्सिटी की किताबों में बदलाव करते हुए हल्दीघाटी के युद्घ में मुगल बादशाह अकबर के बजाए महाराणा प्रताप को विजयी बताया जाए. 

इतिहासकार डॉक्टर चंद्रशेखर शर्मा के शोध के आधार पर यह दावा किया गया है. राजस्थान यूनिवर्सिटी के इतिहास विभाग के अध्यक्ष के जी शर्मा का कहना है कि महाराणा प्रताप और अकबर के बीच का युद्ध ड्रॉ यानी किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा था. 

एक ही दिन चला था हल्दीघाटी का युद्ध!

राजस्थान यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर राजेश्वर सिंह ने बीजेपी विधायक के सुझाव को हिस्ट्री बोर्ड ऑफ स्टडीज के पास भेजा है. जांच के बाद अकैडमिक काउंसिल के पास इसे मंजूरी के लिए भेजा जाएगा. अगर सुझाव को मंजूरी मिलती है, तो नया विवाद खड़ा हो सकता है. 

ज्यादातर इतिहासकारों का मानना है कि 1576 का हल्दीघाटी का युद्ध महज एक दिन चला था. इस दौरान तकरीबन 17 हजार सैनिक मारे गए थे और सेनापति मान सिंह की अगुवाई वाली मुगल सेना की जीत हुई थी. इस युद्ध में महाराणा प्रताप के प्रिय घोड़े चेतक की भी मौत हो गई थी.

First published: 9 February 2017, 15:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी