Home » कल्चर » Raksha Bandhan 2020: Mahasayoga after 29 years, tying rakhi in auspicious time
 

Raksha Bandhan 2020 : रक्षाबंधन पर 29 साल बाद बन रहा महासंयोग, शुभ मुहूर्त में राखी बांधने पर होगा आश्चर्यजनक लाभ

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2020, 10:12 IST

Raksha Bandhan 2020: रक्षाबंधन का त्योहार इस बार सावन के आखिरी सोमवार यानी 3 अगस्त को पड़ रहा है. राखी सावन माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है. वैसे तो रक्षाबंधन हर बार का खास होता है, लेकिन इस बार का रक्षाबंधन बहुत ही ज्यादा खास होने वाला है. इस बार रक्षाबंधन पर बहुत ही बड़ा महासंयोग पड़ रहा है.

रक्षाबंधन पर इस बार सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग बन रहा है. ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि ऐसा शुभ संयोग रक्षाबंधन पर 29 साल बाद आया है. ज्योतिर्विद बताते हैं कि रक्षाबंधन के दिन शुभ मूहुर्त में राखी बांधना बहुत ही ज्यादा लाभकारी रहेगा. इसके साथ ही इन संयोग का  लाभ भी उठाया जा सकता है.

ज्योतिर्विद कहते हैं कि राखी बांधने के समय भद्रा नहीं होनी चाहिए. मान्यता है कि रावण की बहन ने उसे भद्रा काल में राखी बांधी थी इसलिए उसका विनाश हो गया था. ज्योतिष के अनुसार, इस बार की राखी के दिन यानि 3 अगस्त को सुबह 9 बजकर 29 मिनट तक भद्रा है. इसलिए राखी का त्योहार सुबह 9 बजकर 30 मिनट से शुरू हो जाएगा.

इसके बाद दोपहर 1 बजकर 35 मिनट से लेकर शाम 4 बजकर 35 मिनट तक राखी बांधने के लिए बहुत ही अच्छा समय है. फिर शाम 7 बजकर 30 मिनट से लेकर रात 9.30 बजे तक बहुत ही अच्छा मुहूर्त है. इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग भी बन रहा है. इसमें राखी बांधने पर सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

राखी पर इस बार आयुष्मान दीर्घायु योग भी बन रहा है, इसका मतलब यह है कि राखी बंधवाने वाले भाई और बांधने वाली बहन दोनों की आयु लंबी होगी. 3 अगस्त को सावन की पूर्णिमा भी है. ऐसा संयोग बहुत कम आता है कि सोमवार के दिन सावन की पूर्णिमा पड़ जाए. इस तरह इस बार के रक्षाबंधन के दिन बहुत ही अच्छे ग्रह नक्षत्रों का संयोग बन रहा है. 

रक्षाबंधन  सिर्फ भाई बहन का ही त्योहार नहीं, बल्कि ये रक्षा सूत्र के माध्यम से सुरक्षा के वचन का भी त्यौहार है. प्राचीन काल में ऋषि मुनियों द्वारा राजा की कलाई में रक्षा सूत्र बांधने का वर्णन मिलता है. राजा इस रक्षा सूत्र के तहत उन्हें सुरक्षा का वचन देते थे. तभी तो देवासुर संग्राम के समय की पौराणिक कथा में इंद्राणी द्वारा इंद्र को रक्षा सूत्र बांधने का उल्लेख मिलता है.

Janmashtami 2020 Date And Timing: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का जानिए शुभ मुहूर्त, ये है पूजा की विधि

Vastu Tips for Home : भूलकर भी ना बनवाएं ऐसी जगहों पर घर, वरना जिंदगी भर रहेंगे परेशान !

First published: 28 July 2020, 11:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी