Home » कल्चर » significance of basant panchmi saraswati puja vasant panchami 2018 festival in india
 

बसंत पंचमी पर विद्यार्थी जरूर करें ये काम, ज्ञान के साथ मिलेगी नौकरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2018, 15:33 IST

हमारे देश को त्योहारों का देश माना जाता है. यहां आए दिन कोई ना कोई त्योहार मनाया जाता है. इन्हीं त्योहारों में से एक है बसंत पंचमी का त्योहार. पूर्वी भारत और पंजाब के साथ-साथ बसंत पंचमी को लगभग पूरे देश में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. बसंत पंचमी का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है. इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनना शुभ माना जाता है. क्योंकि बसंत पंचमी को बसंत ऋतु के आगमन और विद्या की देवी सरस्वती के रूप में भी मनाया जाता है.

क्यों मनाते हैं बसंत पंचमी-

हमारे देश में पूरे साल को 6 ऋतुओं में बांटा गया है. हर ऋतु का अपना विशेष महत्व है. लेकिन बसंत ऋतु को लोगों का मनचाहा मौसम माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि बसंत पंचमी के दिन से ही सर्दी का मौसम जाने लगता है और वसंत ऋतु का आगमन हो जाता है.

इस मौसम में खेतों में सरसों के पीले फूल खिलने लगते हैं. गेहूं में बालियां निकल आती है और आम पर बौर आ जाता है. सरसों के पीले फूल और आम के बौर पर तितलियां अठखेलियां करने लगती हैं. बंगाल के लोग इस दिन पीले कपड़े पहनकर पूजा-अर्चना करते हैं.

माघ महीने के पांचवे दिन मनाते हैं बसंत पंचमी-

भारतीय कलेंडर के मुताबिक बसंत पंचमी हर साल माघ महीने के पांचवे दिन मनाई जाती है. हर धर्म के अनुयायी इस त्योहार को अलग-अलग तरीके से मनाते हैं. विद्यार्थियों के लिए इस दिन को विशेष माना जाता है. इसीलिए विद्यार्थी इस दिन मां सरस्वती की पूजा कर विद्या प्राप्ति के लिए आशीर्वाद मांगते हैं. स्कूलों में इस दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है.

सरस्वती पूजा के रूप में मनाते हैं बसंत पंचमी-

बंगाल के लोग बसंत पंचमी को सरस्वती पूजा के रूप में मनाते हैं. बसंत पंचमी के दिन को मां सरस्वती का जन्मदिन भी माना जाता है. इस दिन विद्या की देवी सरस्वती से ज्ञान के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए बंगाल के विद्यार्थी विशेष पूजा-अर्चना करते हैं. कला प्रेमी लोग भी वीणावादिनी सरस्वती की विशेष पूजा का आयोजन करते हैं. क्योंकि अपने हाथों में वीणा धारण करने की वजह से ज्ञान की देवी सरस्वती को संगीत और कला की देवी भी माना जाता है.

पंजाब में धूमधाम से मनाते हैं बसंत पंचमी-

पंजाब में इस दिन लोग पीले कपड़े पहनते हैं और पतंग उड़ाते हैं. क्योंकि पीले रंग को वसंत आने का प्रतीक भी माना जाता है. वसंत ऋतु को आदिकाल से ही ऋतुओं में सबसे श्रेष्ठ माना जाता है, क्योंकि इस मौसम में ना ठंड होती है और ना सर्दी. इसीलिए पंजाब के लोग पतंग उड़ाकर इस मौसम का स्वागत करते हैं.

First published: 21 January 2018, 15:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी