Home » कल्चर » Triple Talaq: Know the five judges of Suprme Court who wrote the historical verdict
 

तीन तलाक़: मुस्लिम महिलाओं की तक़दीर लिखने वाले 'पंच परमेश्वर'

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 August 2017, 12:03 IST

सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए मुस्लिम समुदाय में प्रचलित तीन तलाक़ को असंवैधानिक क़रार दिया है. पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने 3-2 के बहुमत से फैसला सुनाया है. हालांकि इस दौरान बेंच के अध्यक्ष चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने कहा कि तलाक़-ए-बिद्दत यानी तीन तलाक़ सुन्नी मुस्लिम समाज में एक हज़ार साल से प्रचलन में है.

अदालत ने केंद्र सरकार से छह महीने के अंदर संसद से कानून बनाने को कहा है. जस्टिस रोहिंगटन नरीमन, जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने इसे असंवैधानिक करार दिया, वहीं जीफ़ जस्टिस जेएस खेहर और जस्टिस नज़ीर ने इससे अलग रुख प्रकट किया. एक नज़र मुस्लिम महिलाओं की तक़दीर लिखने वाले पंच परमेश्वर पर:

1. जस्टिस जगदीश सिंह खेहर (सिख): सिख समुदाय से ताल्‍लुक रखने वाले देश के पहले चीफ जस्टिस हैं. इसी साल देश के 44वें चीफ जस्टिस बने. साल 2011 में सुप्रीम कोर्ट के जज बने थे. 27 अगस्‍त को वे रिटायर हो रहे हैं.

2. जस्टिस कुरियन जोसफ (ईसाई): जस्टिस जोसेफ ने 1979 में केरल हाई कोर्ट में वकालत शुरू की थी. साल 2000 में हाई कोर्ट के जज बने. हाई कोर्ट में दो बार कार्यवाहक चीफ जस्टिस की जिम्मेदारी निभाई. 2010-13 के दौरान वे हिमाचल प्रदेश के चीफ जस्टिस रहे. आठ मार्च, 2013 को सुप्रीम कोर्ट के जज बने. 29 नवंबर 2018 को रिटायर होंगे.

3. रोहिंगटन फली नरीमन (पारसी): 1956 में जन्‍मे नरीमन केवल 37 साल में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील बने. उस वक्‍त इस पद के लिए कम से कम 45 साल की उम्र जरूरी थी. जस्टिस वेंकटचेलैया ने नरीमन के लिए नियमों में संशोधन किया. वेस्टर्न कल्चरल म्यूजिक में महारथ होने के साथ ही प्रकृति के प्रेमी भी हैं.

4. जस्टिस उदय उमेश ललित (हिंदू): 1957 में पैदा हुए जस्टिस ललित ने 1983 में बॉम्बे हाई कोर्ट में वकालत की प्रैक्टिस शुरू की. अप्रैल, 2004 में सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट बने. 2जी मामले में सीबीआई की तरफ से स्पेशल प्रॉसिक्यूटर रहे. 2014 में सुप्रीम कोर्ट के जज बनने वाले जस्टिस ललित साल 2022 में रिटायर होंगे.

5. जस्टिस एस अब्‍दुल नज़ीर (मुस्लिम): 1958 में जन्‍मे जस्टिस नजीर ने साल 1983 में कर्नाटक हाई कोर्ट से वकालत शुरू की. 2003 में कर्नाटक हाई कोर्ट के अतिरिक्‍त जज बने और उसके अगले ही साल स्‍थायी जज बने. फरवरी 2017 में सुप्रीम कोर्ट के जज बने.

First published: 22 August 2017, 11:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी