Home » कल्चर » Shardiya Navratri 2020 Date, Shubh Muhurat, Puja Time and More Important Things
 

Shardiya Navratri 2020 Date: इस दिन से शुरू हो रहे हैं शारदीय नवरात्रि, ये है पूजा का शुभ मुहूर्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 September 2020, 14:27 IST

Shardiya Navratri 2020 Date : शारदीय नवरात्रि मां नवदुर्गा की उपासना का पर्व है. हर साल नवरात्र श्राद्ध खत्म होते ही शुरु हो जाते हैं. लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो पाया. क्योंकि इस बार श्राद्ध खत्म होते ही अधिकमास लग गया है. जिसके चलते नवरात्रि पर्व लगभग 25 दिन बाद मनाया जाएगा. खास बात ये है कि इस साल दो महीने अधिकमास लग रहे हैं. ऐसा लीप वर्ष होने के कारण हो रहा है. ज्योतिषीय के मुताबिक, 165 वर्ष बाद लीप ईयर और अधिकमास एक साथ पड़ रहे हैं. 

यही वजह है कि इस बार चातुर्मास जो हमेशा चार महीने का होता है, इस बार पांच महीने का हो रहा है. ज्योतिष के मुताबिक 165 साल बाद लीप ईयर और अधिकमास दोनों ही एक साल में हो रहे हैं. चतुर्मास में विवाह, मुंडन, कर्ण छेदन जैसे मांगलिक कार्य नहीं होंगे. इस काल में पूजन पाठ व्रत उपवास और साधना का विशेष महत्व होता है. इस दौरान देव सो जाते हैं. देवउठनी एकादशी के बाद ही देव जागते हैं.

घर के पूजा घर में भूलकर भी ना करें ये काम, पैसों की हो जाती है कमी

बताते चलें कि शारदीय नवरात्र की शुरुआत 17 अक्टूबर आश्चिन शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरू होगी. दुर्गा पूजा का आरंभ घट स्थापना से शुरू हो जाता है. घट स्थापना मुहूर्त का समय 17 अक्टूबर दिन शनिवार को सुबह: काल 06 बजकर 27 मिनट से 10 बजकर 13 मिनट तक है. घटस्थापना के लिए अभिजित मुहूर्त सुबह 11 बजकर 44 मिनट से दोपहर 12 बारह 29 मिनट तक रहेगा.

शारदीय नवरात्रि को धर्मग्रंथ एवं पुराणों के मुताबिक माता दुर्गा की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है. नवरात्री के दिनों में हर दिन माता रानी के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है.नवरात्रि का हर दिन देवी के विशिष्ठ रूप को समर्पित होता है और हर देवी स्वरुप की कृपा से अलग-अलग तरह के मनोरथ पूर्ण होते हैं. नवरात्रि का पर्व शक्ति की उपासना का पर्व है. 


सूर्यास्त के बाद नहीं करना चाहिए ये काम, घर की बरकत में पड़ता है असर!

First published: 21 September 2020, 10:31 IST
 
अगली कहानी