Home » दिल्ली » 50 girls student locks in basement by Rabea Girl's Public School Delhi after parents fail to pay tution fee
 

दिल्लीः मासूम बच्चियों के साथ अमानवीय हरकत, फीस न देने पर बेसमेंट में बनाया बंधक

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2018, 11:22 IST
(File Photo)

देश की राजधानी दिल्ली से एक बहुत ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है. मामला है कि यहां के एक स्कूल मैनजमेंट ने 4-5 साल की करीब 50 छात्राओं के साथ वो सलूक किया जो किसी भी स्कूल की साख पर तो बट्टा लगा ही सकता है साथ में कोई भी अभिभावक अपने बच्चे को ऐसे स्कूल में भेजने से पहले सौ बार सोचेगा.

खबर है कि दिल्ली के एक स्कूल ने 50 मासूम लड़कियों को सिर्फ इसलिए बेसमेंट में बंद कर दिया, क्योंकि उनके पैरेंट्स ने उनकी फीस समय पर जमा नहीं की थी. साढ़े 4 से 5 घंटे तक 50 लड़कियों ने उस जुर्म की सजा भुगती जो उन्होंने किया ही नहीं. हालांकि, बाद में लड़कियों को छोड़ दिया गया.

आज तक की एक खबर के मुताबिक, यह मामला दिल्ली के चांदनी चौक इलाके का है, जहां राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल में ये देखने को मिला. इस बात को लेकर अभिभावकों को आरोप है कि छात्राओं को सुबह 7.30 बजे से ही स्कूल के बेसमेंट में रखा गया था, जहां का तापमान करीब 40 डिग्री था.

छुट्टी के समय जब बच्चे बाहर नहीं निकले तो अभिभावकों को इसकी जानकारी मिली. वहीं, अभिवावकों को ओर से हंगामा करने के बाद उन्हें बताया कि बच्चों को बेसमेंट में बंद कर दिया गया है और उनकी अनुपस्थिति मार्क कर दी गई है, क्योंकि स्कूल मैनेजमेंट को उनकी फीस प्राप्त नहीं हुई थी.

File

इसी बात को लेकर कई पैरेंट्स का कहना है कि उन्होंने फीस जमा कर दी है. हालांकि, स्कूल मैनेजमेंट का कहना है कि स्कूल के डेटाबेस में यह जानकारी उपलब्ध नहीं है. बहरहाल पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है. पुलिस ने स्कूल प्रशासन के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

ये भी पढ़ेंः दिल्ली के सरकारी स्कूलों में अच्छी शिक्षा से अभिभावक हैं संतुष्ट: एसोचैम

वहीं, इस मामले को बढ़ता देख स्कूल प्रिंसिपल ने स्कूल पर लगे आरोपों का खंडन किया है. इस बात को लेकर प्रिंसिपल ने कहा है कि बेसमेंट सजा देने का स्थान नहीं है और यह एक एक्टिनिटी रूम है जहां बच्चे खेलते हैं और उन्हें म्यूजिक सिखाया जाता है. यह एक क्लासरूम की तरह ही है.

First published: 11 July 2018, 11:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी