Home » दिल्ली » Citing Shortage of beds in Delhi AIIMS hospital wants to discharge the twins from Odisha
 

इस वजह से सिर से जुड़े जग्गा और कालिया को AIIMS से ओडिशा शिफ्ट किया जायेगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 April 2018, 13:31 IST

सिर से जुड़वा भाईयों जग्गा और कालिया के संबंध में एम्स ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से कहा है, कि अब जग्गा और कालिया को विशेष देखभाल की जरूरत नहीं है. उन्हें ओडिशा के ही किसी राज्य स्तरीय अस्पताल में शिफ्ट किया जा सकता है. जहां अच्छे नर्सिंग और बाल चिकित्सा सहायता केंद्र मौजूद हैं.

बता दें कि करीब छह महीने पहले AIIMS के डॉक्टरों ने जग्गा और कालिया नाम के जुड़वा भाईयों को सर्जरी कर अलग कर दिया था. दोनों सिर से जुड़े हुए थे. सर्जरी के बाद दोनों की सेहत में तेजी से सुधार हुआ. उसके बाद AIIMS ने बच्चों के जग्गा और कालिया को डिस्चार्ज करने का फैसला लिया था.

AIIMS ने कहा था कि जग्गा और कालिया को विशेष देखभाल की जरूरत नहीं है. इसलिए दोनों को ओडिशा के ही किसी राज्य स्तरीय अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है. जहां उनकी देखभाल ठीक से की जा सकती है. क्योंकि उनके मां-बाप ओडिशा के ही रहने वाले हैं. जहां उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं होगी.

AIIMS के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता राधाकांत त्रिपाठी ने जग्गा और कालिया के माता-पिता की ओर से एक याचिका डाली थी. जिसमें उन्हें ओडिशा के किसी अस्पताल में शिफ्ट करने पर रोक लगाने की मांग की गई थी. साथ में कहा गया था कि ओडिशा के एम्स में जग्गा और कालिया की केयर के पूरे इंतजाम मौजूद नहीं हैं.

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की याचिका के जवाब में AIIMS ने कहा है कि बच्चों का डॉक्टर्स की टीम ने ठीक से जांच की है. इस टीम में बाल रोग विशेषज्ञ, बाल चिकित्सा न्यूरोलॉजिस्ट, प्लास्टिक सर्जन, ईएनटी चिकित्सक, तंत्रिका विज्ञानी और न्यूरोसर्जन शामिल थे. AIIMS ने कहा कि डॉक्टर्स की टीम ने पाया कि सर्जरी के चार महीने बाद बच्चों के लिए कोई खतरा नहीं है. इसलिए उन्हें ओडिशा शिफ्ट किया जा सकता है.

वहीं AIIMS का ये भी कहना है कि न्यूरोसर्जरी डिपार्टमेंट, सीएन सेंटर बैड की पहले ही कमी है. एम्स ने कहा कि जनरल न्यूरोसर्जरी वार्ड में पहले से ही दो साल की वेटिंग चल रही है. वहीं कार्डियो, न्यूरो और सीएनटी के प्राइवेट वार्ड के लिए भी पांच से छह महीने की वेटिंग है. एम्स ने कहा कि हम पहले ही कह चुके हैं कि मानवता के आधार पर जग्गा को तीन महीने तक डिस्चार्ज नहीं किया जाएगा.

एम्स ने कहा कि 'हमने जग्गा और कालिया को मुख्य रूप से अस्पताल में रखा है. क्योंकि उनके माता-पिता बहुत दूर से आते हैं. ऐसे में हम चाहते हैं कि दोनों बच्चें जल्द ही अपने माता-पिता के साथ घर जाने को तैयार रहें.’

ये भी पढ़ें- अलीगढ़: AMU के अस्पताल में मरीजों के साथ जानवरों जैसा सलूक, बेड से बांधे हाथ-पैर

First published: 2 April 2018, 13:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी