Home » दिल्ली » Delhi CM Arvind Kejriwal announces unauthorized colonies to be authorized as central government agrees on proposal
 

केजरीवाल का अनधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले 50 लाख लोगों को तोहफा, जल्द शुरु होगी रजिस्ट्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 July 2019, 14:11 IST

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली की करीब 2000 अनधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को बड़ा तोहफा दिया है. जिसके तहत इन कॉलोनियों को मकानों की जल्द ही रजिस्ट्री शुरु होगी. बता दें कि इन कॉलोनियों में करीब 50 लाख लोग रहते हैं.

दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए आम आदमी पार्टी के इस एलान को अरविंद केजरीवाल के बड़े दांव के रूप में देखा जा रहा है. बता दें कि इन घरों की रजिस्ट्री होने से न केवल यहां रहने वाले 50 लाख लोगों को फायदा पहुंचेगा बल्कि इससे सरकार को भी करोड़ों रुपये टैक्स की प्राप्ति होगी.

गुरुवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि, "चार साल में हम लोगों भी कोशिश करते रहे और केंद्र सरकार भी कोशिश करती रही. दिल्ली का विकास तभी हो सकता है, जब केंद्र और दिल्ली सरकार मिलकर काम करें. ये अच्छी बात है कि केंद्र सरकार दिल्ली सरकार के प्रस्तावों को मंजूरी दे रही है."

केजरीवाल ने आगे कहा कि दिल्ली की कच्ची कॉलोनी में रहने वाले लोगों के लिए अच्छी खबर है. क्योंकि जल्दी अनाधिकृत कॉलोनियों के मकानों की रजिस्ट्री होगी बल्कि उन्हें मालिकाना हक भी मिलेगा. सीएम केजरीवाल ने कहा कि, "कच्ची कॉलोनी में रह रहे लोगों के साथ धोखा होता रहा है. केंद्र और दिल्ली सरकार दोनों चुनाव में वादा कर भूल जाते थे. इससे पहले 2 नवंबर, 2015 को कैबिनेट में प्रस्ताव पारित कर केंद्र को भेजा था. इस बाबत 12 नवंबर को चिठ्टी केंद्र को भेजी थी. इस मुद्दे पर बुधवार शाम को केंद्र की ओर से उसपर सकारात्मक जवाब आया है.”

वहीं कच्ची कॉलोनियों के मुद्दे पर केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार सालों पुराना मालिकाना हक का सपना पूरा करने जा रही है. उन्होंने कहा कि, "पहले इन कॉलोनियों में काफी बुरे हालात थे. कभी पानी, सीवर, नाली सड़क की व्यवस्था नहीं थी. हमारी सरकार ने पहली बार इन कॉलोनियों पर 3500 करोड़ खर्च कर चुकी है. 2500 करोड़ लगाकर पानी की लाइन डाल रहे हैं. पहली बार 6 हजार करोड़ कॉलोनियों में खर्च हो रहा है.”

First published: 18 July 2019, 14:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी