Home » दिल्ली » Delhi: Congress bidding: Differences from officials, Sheila government's rounds, but ....
 

कांग्रेस बोली- अधिकारियों से मतभेद तो शीला सरकार के दौर भी हुए , लेकिन....

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 February 2018, 18:06 IST

कांग्रेस ने बुधवार को आम आदमी पार्टी के दो विधायकों द्वारा दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ कथित रूप से मारपीट की घटना को सत्तारूढ़ पार्टी की एक 'सुनियोजित रणनीति' बताया और कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को मुख्य सचिव से माफी मांगनी चाहिए.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के साथ उप राज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात करने के बाद दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने पत्रकारों से कहा, "मुख्य सचिव के साथ मारपीट की घटना काफी शर्मनाक है. राष्ट्रीय राजधानी के लिए प्रशासनिक अपंगता की स्थिति काफी खतरनाक है."

 

उन्होंने कहा, "हमने उप राज्यपाल से मुलाकात की और अधिकारियों को सुरक्षा देने की मांग की ताकि वे सम्मान के साथ काम कर सकें और उन पर कोई राजनीतिक दबाव नहीं होना चाहिए." उन्होंने आरोप लगाया, "केजरीवाल सरकार बीते तीन वर्षो में सभी मोर्चो पर विफल रही है. इसलिए इन विफलताओं से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए यह आप की सुनियोजित रणनीति है."

आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जरवाल को इस कथित हमले रे संबंध में मंगलवार को गिरफ्तार किया गया जबकि विधायक अमानतुल्ला खान ने बुधवार को पुलिस थाने में आत्मसमर्पण किया. मुख्यमंत्री के सलाहकार वी.के. जैने से भी इस कथित मारपीट के संबंध में पूछताछ की जा रही है.

 

माकन ने कहा, "शीला दीक्षित सरकार में कई बार ऐसे समय आए जब कई मुद्दों पर विधायकों और अधिकारियों में मतभेद हुए, लेकिन उन्होंने सभी विधायकों को नौकरशाहों को सम्मान बनाए रखने के आदेश दिए थे. 15 वर्षो में, हमने इन सभी अधिकारियों के साथ काम किया और छह चुनाव जीतने में सफल रहे.

माकन ने कहा, "जब हम इन अधिकारियों के साथ सम्मान के साथ काम कर सकते हैं, तो केजरीवाल क्यों नहीं?" उन्होंने कहा कि दिल्ली में 1998 से 2004 के दौरान जब केंद्र में भाजपा की सरकार थी, दिल्ली में कांग्रेस को भी उसके आग्रह पर अधिकारी नहीं दिए गए.

उन्होंने कहा, "लेकिन, हमने जो मिला, उनके साथ काम किया। ऐसा हुआ क्योंकि हमने अधिकारियों के साथ सम्मानपूर्वक और लोगों के लिए काम किया. "माकन ने कहा, "हम केजरीवाल से अधिकारियों से माफी मांगने और दोषियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने की मांग करते हैं। हम यह भी मांग करते हैं कि उप राज्यपाल अधिकारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करें."

मंगलवार को, आईएएस एसोसिएशन ने कहा था कि नौकरशाह केजरीवाल और उनके मंत्रियों या विधायकों से तबतक नहीं मिलेंगे, या फोन पर बात नहीं करेंगे, जबतक केजरीवाल इस घटना के लिए माफी नहीं मांगते.

First published: 21 February 2018, 18:01 IST
 
अगली कहानी