Home » दिल्ली » Delhi High court ask Arvind Kejriwal government for Air pollution
 

दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल सरकार से किया सवाल- प्रदूषण रोकने के लिए क्या किया?

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 June 2018, 8:31 IST

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण और धूल ऐसे दिखाई दे रही है जैसै फॉग आसमान में छाया हो. इस बात के दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड और दिल्ली सरकार को एक नोटिस जारी किया है. इस नोटिस के जरिए हाईकोर्ट ने पूछा है कि वह इसे रोकने के लिए तुरंत क्या कदम उठा रहे हैं.

बता दें कि प्रदूषण का स्तर बढ़ने के बाद दिल्ली के एलजी ने दिल्ली-एनसीआर में सभी तरह के निर्माण कार्यों पर तुरंत प्रभाव से रोक लगाई थी. लेकिन इस याचिका में ये दावा किया गया है कि एलजी के आदेश के बाद भी इस आदेश का पालन अभी भी नहीं हो रहा है.

इस याचिका में कहा गया है दिल्ली में लगातार प्रदूषण और धूल के बढ़ने के कारणों का जल्द से जल्द पता लगाया जाए. वहीं, आपातकालीन हालातों से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार और सिविक एजेंसी को निर्देश दिया जाए. साथ ही पर्यावरण अनुकूल उपायों को बढ़ाकर प्रदूषण पर लगाम लगाने की कोशिश की जाए.

दायर याचिका में कहा गया है कि वैक्यूम क्लीनर और पानी का छिड़काव करके दिल्ली में छाए प्रदूषण को दूर करने की कोशिश बड़े स्तर पर की जा सकती है. इसके अलावा याचिका में ये भी कहा है कि कोयले से चलने वाले तंदूर(रोटी पकाने के लिए जो उपयोग होते हैं) पर भी लगाम लगाए जाने की ज़रूरत है.

याचिका में बदरपुर थर्मल पावर प्लांट को भी बंद किए जाने का जिक्र किया गया है. साथ ही भारी उद्योगों को भी जल्द बंद किया जाने की मांग की है जिससे भी प्रदूषण बढ़ रहा है. साथ ही राजधानी में एयर प्यूरीफायर और डस्ट प्यूरीफायर के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाए. केजरीवाल सरकार इन्हें दिल्ली में जगह जगह स्थापित करे.

याचिकाकर्ता ने कहा है कि दिल्ली ने फिलहाल एक गैस चैम्बर का रूप धारण किया हुआ है. लिहाजा दिल्ली के लोगों को इन खतरनाक हालातों से बचाने की ज़रूरत है क्योंकि इस शहर में लगातार कैंसर और अस्थमा के मरीजों की संख्या आए दिन बढ़ रही है.

First published: 16 June 2018, 8:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी