Home » दिल्ली » Delhi High court sets aside JNU order imposing penalty on Kanhaiya Kumar, calls it illegal
 

राजद्रोह केस: दिल्ली हाईकोर्ट ने कन्हैया के खिलाफ JNU की कार्रवाई को बताया गैरकानूनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2018, 19:07 IST

दिल्ली हाईकोर्ट ने कन्हैया कुमार मामले में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय प्रशासन को बड़ा झटका दिया है. हाईकोर्ट ने कन्हैया कुमार पर अनुशासनहीनता के आरोप में लगाए गए 10 हजार रुपये के जुर्माने वाले आदेश को खारिज कर दिया है.

हाईकोर्ट ने कन्हैया कुमार पर लगाए गए जुर्माने को तर्कहीन और अवैध बताया है. हाईकोर्ट के आदेश के बाद जेएनयू ने कन्हैया कुमार पर लगाये गए जुर्माने को वापस लेने की बात कही है. बता दें कि जेएनयू ने साल 2016 में भारत विरोधी नारे वाले लगाए जाने वाली घटना में अनुशासनहीनता के आरोप में 10 हजार रुपये में का जुर्माना लगाया था. जिसको हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है.

मीडिया खबरों के अनुसार, हाईकोर्ट ने जेएनयू के 4 जुलाई को कन्हैया कुमार पर लगाए गए जुर्माने वाले आदेश को तर्कहीन, अनियमित और अवैध करार देते हुए खारिज कर दिया. कोर्ट के आदेश के बाद जेएनयू के वकील ने अदालत से कहा कि वो कन्हैया कुमार के खिलाफ लगाए गए जुर्माने वाले आदेश को वापस ले रहे हैं.

इस पर हाईकोर्ट ने कहा कि अच्छा है आप इस आदेश को वापस ले रहे हैं. नहीं तो हमने अपने आदेश में ये लिखा था कि आपने जो जुर्माना लगाया है, उसमें क्या क्या खामियां है. कन्हैया कुमार के खिलाफ विश्वविद्यालय की तरफ से की गई ऐसी कार्रवाई गैरकानूनी और अतार्किक है. उसके खिलाफ इस तरह का जुर्माना नहीं लगाया जाना चाहिए. कोर्ट ने इस पूरे मामले को फिर से देखने और कन्हैया कुमार को सुनने का आदेश दिया है.

हाईकोर्ट में कन्हैया कुमार के वकील ने कहा कि बिना पक्ष जाने ही जेएनयू की उच्च स्तरीय जांच समिति ने उन पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगा दिया. इसके साथ ही कहा गया कि अगर जुर्माने की राशि जमा नहीं कराई गई तो कन्हैया कुमार अपनी थीसिस जमा नहीं करा पाएंगे.

गौरतलब है कि जेएनयू में 9 फरवरी 2016 को एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. आरोप है कि इस कार्यक्रम में छात्रों द्वारा देश विरोधी नारे लगाए गए. इस मामले में पुलिस ने उस समय के छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो साथियों को उमर ख़ालिद और अनिर्बन को गिरफ़्तार किया गया. हालांकि बाद में तीनों को ज़मानत मिल गई. इस मामले में कन्हैया कुमार को जमानत से पहले23 दिन तक जेल में रहना पड़ा था. दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच कर रही है. अभी तक कोर्ट में पुलिस की तरफ से चार्जशीट दाखिल नहीं की गई है. इस मामले की जांच करते हुए जेएनयू की उच्चस्तरीय जांच समिति ने आरोपी 21 छात्रों को अनुशासन तोड़ने का दोषी पाया था. जिसका काफी विरोध भी हुआ था.

ये भी पढ़ें-  कन्हैया कुमार: देशभक्ति से सराबोर एक 'देशद्रोही' की जमानत का फैसला

First published: 20 July 2018, 19:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी