Home » दिल्ली » Delhi High court transferred Najeeb's case to CBI
 

दिल्ली: SIT और क्राइम ब्रांच फेल, हाई कोर्ट ने नजीब केस CBI को सौंपा

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 May 2017, 15:11 IST

सात महीने से लापता जेएनयू छात्र नजीब अहमद की जांच दिल्ली हाई कोर्ट के आदेश पर सीबीआई को सौंप दी गई है. नजीब अहमद केस से जुड़ा एक भी महत्वपूर्ण सुराग ढूंढ़ पाने में नाकाम क्राइम ब्रांच की जांच रिपोर्ट देखने के बाद हाई कोर्ट ने यह आदेश दिया है. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच से पहले इस केस की जांच साउथ दिल्ली पुलिस की ओर से गठित एक स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम कर रही थी. 

'अंधेरे में तीर चला रही है पुलिस'

दिल्‍ली हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई कर रही जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस दीपा शर्मा की बेंच ने मंगलवार को यह आदेश जारी किया है. बीते शुक्रवार को भी दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस की जांच पर सवाल उठाए थे. तब कोर्ट ने कहा था कि ऐसा लग रहा है जैसे दिल्ली पुलिस नजीब अहमद की जांच से बच निकलना चाहती है, पुलिस जांच के नाम पर कुछ नहीं कर रही है. वो सिर्फ अंधेरे में तीर चला रही है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने जहां क्राइम ब्रांच की जांच पर सवाल उठाया है, वहीं नजीब अहमद की मां फ़ातिमा नफ़ीस ने एसआईटी पर सवाल उठाया था, जो क्राइम ब्रांच से पहले इस केस की तहकीकात कर रही थी. फातिमा नफ़ीस ने एसआईटी पर जांच में लेटलतीफी का आरोप लगाया था. 

14 अक्टूबर को JNU के हॉस्टल से लापता

नजीब अहमद दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट हैं. वह 14 अक्टूबर की रात से जेएनयू के हॉस्टल माही-मांडवी से लापता हैं. गायब होने से एक रात पहले कैंपस में उनका एबीवीपी के कार्यकर्ताओं से झगड़ा हुआ था.

इस केस में एबीवीपी के कार्यकर्ता शक के दायरे में हैं. बार-बार दिल्ली पुलिस पर यह आरोप भी लगता रहा है कि इन कार्यकर्ताओं से सख़्ती से पूछताछ नहीं करने के कारण ही यह मामला अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सका है.

First published: 16 May 2017, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी