Home » दिल्ली » Delhi High Court upholds charges, including tampering of evidence, against Ansal brothers in Uphar tragedy case.
 

उपहार केस: अंसल ब्रदर्स पर सबूतों और दस्तावेज से छेड़छाड़ का मामला चलेगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 May 2017, 12:14 IST

दिल्ली हाईकोर्ट ने उपहार केस में अंसल ब्रदर्स की याचिका को खारिज कर दिया है. कोर्ट ने इस मामले में अंसल ब्रदर्स समेत कुल 7 लोगों के खिलाफ केस चलाने का आदेश दिया है. सुशील और गोपाल अंसल पर अब उपहार केस में सबूतों और दस्तावेजों से छेड़छाड़ का मामला चलेगा.

हाइकोर्ट ने अंसल भाइयों को आपराधिक साजिश रचने के अलावा धारा 420, 201 और 109 के तहत दोषी करार दिया है. पटियाला हाउस कोर्ट में सबूतों से छेड़छाड़ के बाद जब अंसल ब्रदर्स के ख़िलाफ़ निचली अदालत ने चार्ज फ्रेम कर दिए थे. इसके ख़िलाफ़ अंसल बंधु हाईकोर्ट गए थे. 

ये वो दस्तावेज थे, जिनसे यह साबित हो रहा था कि बिना अंसल ब्रदर्स की मर्जी के उपहार सिनेमा हॉल में एक पत्ता भी नही हिल सकता था. सभी आर्थिक मामलों में उन्हीं की हिस्सेदारी और स्वामित्व था.

हाईकोर्ट ने सुशील और गोपाल अंसल के अलावा पटियाला हाउस कोर्ट के 2 कर्मचारियों और अंसल ब्रदर्स के तीन स्टाफ़ को भी सबूतों और दस्तावेजों से छेड़छाड़ के मामले मे ट्रायल चलाने का आदेश दिया है.

दरअसल उपहार कांड 1997 में हुआ था. उपहार सिनेमा हॉल में बॉर्डर मूवी देखते समय अचानक लगी आग से 59 लोगों की दुखद मौत हो गई थी. कोर्ट मे जिरह के दौरान अंसल ब्रदर्स के वकीलों ने ये साबित करने की कोशिश की कि 1988 के बाद उनका उपहार सिनेमा हॉल मे कोई दखल नही था.

First published: 12 May 2017, 16:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी