Home » दिल्ली » Delhi State congress committee office rouse avenue building attach movable property says court
 

95 लाख नहीं चुका सकी कांग्रेस, जब्त होगा दफ्तर का सामान

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 March 2018, 10:15 IST

कांग्रेस के लिए एक और बुरी खबर सामने आ रही है. त्रिपुरा,मेघालय और नागालैंड में खराब प्रदर्शन के बाद कांग्रेस के लिए दिल्ली से भी बुरी खबर सामने आई है. दरअसल, ये खबर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के कार्यालय से जुड़ी है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कांग्रेस के इस दफ्तर में रखे सामानों को जब्त करने की कवायद शुरू हो गई है. एक बिल्डर की गुहार के बाद तीस हजारी कोर्ट के आदेश पर यह कार्रवाई शुरू हुई है.

 

दरअसल, बिल्डर ने दावा किया है कि कांग्रेस के दिल्ली प्रदेश के दफ्तर का निर्माण करवाने के बाद कांग्रेस पार्टी ने बकाया धनराशि का भुगतान नहीं किया था. इसको लेकर कोर्ट ने आदेश दिया के दफ्तर में रखे सामान को जब्त कर लिया जाए. लेकिन पुलिस की टीम जब कुर्की करने पहुंची तो टीम को कांग्रेस के कार्यालय पर ताला लगा मिला. जिस पर टीम खाली हाथ वापस चली गई.

 

बताया जा रहा है कि कांग्रेसियों ने दिल्ली प्रदेश के इस दफ्तर के दोनों गेट पर ताले जड़ दिए थे. वहीं, जब पुलिस की टीम कुर्की करने पहुंची तो तमाम कांग्रेसी कार्यकर्ता दफ्तर के बाहर जुट गए और प्रदर्शन करने लगे. इस बात को लेकर बिल्डर के वकील विनय गुप्ता ने कहा,”जब हम कोर्ट स्टाफ और पुलिस के साथ दफ्तर पर पहुंचे तो दफ्तर पर ताला लगा मिला. जिससे कुर्की की कार्रवाई नहीं हो सकी.”

 

क्या है मामला

दरअसल, दिल्ली के राउज एवेन्यू स्थित दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के भवन निर्माण का ठेका विनोद गोयल व उनके भाई को मिला था. उनकी कंस्ट्रक्शन कंपनी ने साल 2003-04 के बीच भवन बनाकर कांग्रेस पार्टी के हवाले कर दिया था. कांग्रेस ने इस दफ्तर को बनवाने के लिए टेंडर साल 2001 में निकाला था. विनोद गोयल के मुताबिक उन्हें निर्माण के पूरे पैसे मिले ही नहीं.

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ती पर चला बीजेपी समर्थकों का बुलडोजर

कांग्रेस पार्टी ने सिर्फ 38 लाख रुपए चेक से भुगतान किए, जबकि दूसरी किश्त में 57 लाख रुपये का भुगतान ही नहीं किया गया. जिसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट में गुहार लगाई. दिल्ली हाईकोर्ट ने मामला तीस हजारी कोर्ट को भेज दिया. करीब 13 साल तक चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने बीते 6 जनवरी 2018 को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी को ब्याज सहित पूरे बकाए के भुगतान का आदेश दिया. बिल्डर के मुताबिक कांग्रेस पार्टी पर उसका कुल 94,82,805 रुपये बकाया है.

First published: 6 March 2018, 10:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी