Home » दिल्ली » DMRC: Incident occurred at Kalindi Kunj Depot, responsibility of the incident is ROTEM
 

दिल्ली में पहली बार मेट्रो ट्रेन का हुआ एक्सीडेंट

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 November 2016, 14:37 IST
(डीएमआरसी)

दिल्ली में पहली बार मेट्रो ट्रेन हादसे का शिकार हो गई. घटना शुक्रवार दोपहर की बताई जा रही है. हालांकि गनीमत यह रही कि ट्रायल रन होने की वजह से कोई हताहत नहीं हुआ.

दरअसल शुक्रवार को मेट्रो के तीसरे फेज के तहत जनकपुरी-बॉटेनिकल गार्डन लाइन पर ट्रायल रन चल रहा था. इसी दौरान मेट्रो कलिंदीकुंज डिपो की ओर जा रही थी. इसी बीच दूसरी लाइन पर भी एक और मेट्रो डिपो की तरफ ही आ रही थी.

डीएमआरसी

डीएमआरसी: रोटेम स्टाफ की लापरवाही

हालांकि हैरानी की बात यह है कि दिल्ली मेट्रो प्रशासन इस मामले की लीपापोती करने में जुटा हुआ है. डीएमआरसी हालांकि टक्कर होने की बात से इनकार कर रहा है.

दिल्ली मेट्रो के प्रवक्ता अनुज दयाल का कहना है, "शुक्रवार को दोपहर तीन बजकर 45 मिनट पर कालिंदी कुंज डिपो की लाइन नंबर आठ पर यह घटना हुई है. यहां हुंडई रोटेम की पूरी तरह नियंत्रण में ट्रायल रन हो रहा था. शायद रोटेम स्टाफ ने गलती से उलटी दिशा में मेट्रो को रवाना कर दिया."

अनुज दयाल ने मामले पर सफाई देते हुए कहा, "घटना की जिम्मेदारी रोटेम की है और शुरुआती तौर पर पता चला है कि यह रोटेम स्टाफ की लापरवाही से हुआ है. रोटेम की ओर से हादसे की विस्तृत जांच की जा रही है और खामी पता चलने पर उचित कार्रवाई की जाएगी."

डीएमआरसी

रगड़ती हुई चली मेट्रो!

दिल्ली मेट्रो के आधिकारिक सूत्र बताते हैं कि एक मेट्रो को फॉलिंग मार्क(रुकने वाली जगह) पर रुकने के लिए बोला गया था और उसके सिग्नल भी दिए गए थे. लेकिन वह फॉलिंग मार्क को पार कर गई.

इसी दौरान आ रही दूसरी मेट्रो भी एक-दूसरे को रगड़ती हुई चल पड़ी. बताया जाता है कि इस बड़ी लापरवाही से डीएमआरसी सकते में है. अगर ट्रेन में यात्री होते, तो बड़ा हादसा हो सकता था.

इस मामले से मेट्रो परिचालन की सुरक्षा व्यवस्था सवालों के घेरे में है. इससे पहले जहांगीरपुरी-हुडा सिटी सेंटर रूट पर मेट्रो ट्रेन खुले दरवाजे के साथ चल पड़ी थी.

First published: 5 November 2016, 14:37 IST
 
अगली कहानी