Home » दिल्ली » Father and Son Cheated by the name of NASA Scientists with Wearing Astronaut Suit in Delhi
 

डेढ़ करोड़ की ठगी के लिए NASA के वैज्ञानिक बने बाप-बेेटे

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 May 2018, 12:45 IST

दिल्ली में एक बाप-बेटे ने ठगी करने का अनोखा तरीका निकाला. इस तरीके से दोनों ने मिलकर लोगों से डेढ़ करोड़ रुपये की ठगी कर ली. ठगी करने के लिए इन्होंंने खुद को नासा का साइंटिस्ट बताया. उसके बाद इन्होंने एक शख्स को डेढ करोड़ रुपये का चूना लगा गया. दोनों पीड़ित से बिल्कुल नासा के साइंटिस्ट की तरह मिले और उन्होंने उस समय एस्ट्रोनॉट शूट भी पहना हुआ था.

पूरा मामला दिल्ली के पश्चिमी विहार का है. यहीं पर ये दोनों शातिर बाप-बेटे रहते हैं. पिता का नाम वीरेन्द्र मोहन और बेटे का नाम नितिन है. दोनों 90 के दशक में मोटर वर्कशॉप का बिजनेस करते थे. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के डीसीपी भीष्म सिंह के मुताबिक़, बाप-बेटे ने एक कपड़ा व्यापारी को नासा में इस्तेमाल में आने वाली राइस पुलर नाम की एक मेटल डिवाइस बेचने का सौदा किया. बता दें कि राइस पुलर एक तरह की धातु है जो चावल जैसे छोटे कण को अपनी तरफ खींचने की ताकत रखती है.

डीसीपी भीष्म सिंह ने बताया कि दोनों बाप-बेटा पीड़ित कारोबारी को ये समझाने में कामयाब हो गए, कि राइस पुलर की चुंबकीय शक्ति की वजह से नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन सेंटर यानी नासा में बहुत मांग है. इसके कारोबार से उन्हें हजारों करोड़ का फायदा होगा. पुलिस के मुताबिक पूरी डील 3750 करोड़ की थी. इसके लिए बाप-बेटे ने मिल कर ठगी के शिकार करोबारी से किस्तों में साइंटिस्ट, केमिलकल, लैब, कपड़े के नाम पर 1 करोड़ 43 लाख रुपये का चूना लगा दिया.

इन दोनों ने मयूर विहार में रहने वाले कारोबारी को साल 2015 में अपने चाल में फंसाया और दोनों पक्षों के बीच लेनदेन का सिलसिला चार-पांच महीने चलता रहा. इन बाप-बेटों ने अपनी एक फर्जी बेवसाइट भी बना रखी थी. इसी वेबसाइट को देखकर उन्हें यकीन हो गया कि दोनों बाप-बेटा नासा में साइंटिस्ट हैं.

पिता-पुत्र ने कारोबारी को बताया कि एस्ट्रोनॉट सूट और जांच से जुड़े सामान को ख़रीदने के लिए पैसों की ज़रूरत होगी, जो काफ़ी मंहगे आते हैं. साथ ही जांच पूरी करने के लिए एक अलग लैब और केमिकल की जरूरत होगी. जिसका पूरा खर्चा कारोबारी को उठाने कहा गया. कारोबारी भी इसके लिए राजी हो गया.

उसके बाद कारोबानी ने इन फर्जी साइंटिस्ट के खाते में रुपये भेजना शुरु कर दिया. लेकिन पांच महीने बाद ही कारोबारी को अपने ठगे जाने का अहसास हो गया. और उसके बाद उन्होंने बाप-बेटों से अपना पैसा वापस मांगा, लेकिन पैसा वापस ना करने पर करोबारी परेशान हो गया.

बाप-बेटों ने कारोबारी को धमकी दी उसके बाद कारोबारी ने पुलिस में शिकायत की. उसके बाद पुलिस ने दोनों बाप-बेटों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस को इनके पास से कई सिम कार्ड, लैप-टॉप और एस्ट्रोनॉट के कपड़े मिले हैं. पुलिस पूछताछ में इन्होंने स्वीकार किया कि 1200 रुपए में दिल्ली के चांदनी चौक से उन्होंने एस्ट्रोनॉट की ड्रेस खरीदी थी.

ये भी पढ़ें- सैनिकों को ऐसे सम्मान देता है ये डॉक्टर, जानकर आपको भी होगा गर्व

First published: 10 May 2018, 12:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी