Home » दिल्ली » High Court to Delhi Government Lawyer: This can’t be called a strike. You can’t go inside someone’s office or house and hold a strike there
 

हाईकोर्ट ने केजरीवाल के धरने पर उठाए सवाल, किसी के ऑफिस में धरना कैसे?

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 June 2018, 12:54 IST
(सांकेतिक फोटो)

एलजी दफ्तर में पिछले एक हफ्ते से धरने पर बैठे सीएम अरविंद केजरीवाल का मुद्दा हाईकोर्ट पहुंच गया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल के एलजी दफ्तर में धरने पर कई सवाल खड़े किए हैं. हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा है कि एलजी दफ्तर में धरना देने की अनुमति किसने दी. क्या एलजी से इसके लिए अनुमति ली गई. हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा है कि आप बिना अनुमति के किसी के घर जा कर हड़ताल नहीं कर सकते हैं.

बता दें कि सीएम अरविंद केजरीवाल अपनी कुछ मांगों को लेकर अपने तीन मंत्रियों के साथ पिछले सोमवार से दिल्ली उप राज्यपाल के दफ्तर में धरने पर बैठे हैं. दूसरी तरफ आईएस अधिकारी भी कथित अनौपचारिक हड़ताल पर हैं. ऐसे में दिल्ली की जनता परेशान हो रही है.

केजरीवाल का धरना समाप्त कराने के लिए हाकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है. सोमवार को BJP विधायक विजेंद्र गुप्ता ने भी केजरीवाल की हड़ताल खत्म कराने के लिए हाईकोर्ट में पिटीशन दायर की है. हाईकोर्ट में आज केजरीवाल का धरना समाप्त कराने वाली याचिका पर सुनवाई की गई. 

मीडिया रिपोर्ट्स  के अनुसार, दिल्ली सरकार के वकील ने हाईकोर्ट में कहा कि आईएएस अधिकारियों ने बैठक में हिस्सा नहीं लेने की बात कल खुद स्वीकार की है. इस पर कोर्ट ने कहा कि आपको किसी के घर में धरना देने की अनुमति किसने दी. क्या इसके लिए अनुमति ली गई थी. यह एक व्यक्तिगत फैसला है. हाईकोर्ट ने कहा कि क्या यह संवैधानिक है. 

इसके साथ ही कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि आप  किसी के घर में इस तरह से धरना नहीं दे सकते हैं. कोर्ट ने दिल्ली सरकार से यह भी पूछा कि क्या इसके लिए कैबिनेट की मंजूरी ली गई थी. 

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल दिल्ली में आईएएस अधिकारियों की हड़ताल समाप्त कराने और दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने जैसी मांगो को लेकर धरने पर बैठे हैं. उनके इस धरने को लेकर राजनीति तेज हो गई है. पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी सहित चार राज्यों के मुख्यमंत्री भी केजरीवाल के धरने के समर्थन में आ गए हैं.

First published: 18 June 2018, 12:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी