Home » दिल्ली » kejriwal Government reserves 50% beds for Delhiites at GB Pant Hospital in delhi
 

केजरीवाल सरकार ने दिल्ली वालों की बड़ी मुसीबत ख़त्म की

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 December 2017, 13:49 IST

दिल्ली सरकार ने राजधानी में रहने वालों को बड़ी राहत दी है. केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के गोविंद बल्लभ पंत अस्पताल में दिल्ली वालों को इलाज के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला किया है. जीबी पंत हॉस्पिटल की गिनती दिल्ली के सुपर स्पेशिएलिटी वाले अस्पतालों में होती है. 

दिल्ली सरकार के फैसले के मुताबिक जीबी पंत में सोमवार से लोगों का इसका लाभ मिलना शुरू हो जाएगा. जीबी पंत अस्‍पताल में  714 बेड है. केजरीवाल सरकार के फैसले के बाद सोमवार से 357 बेड दिल्‍लीवालों के लिए आरक्षित होंगे. इस अस्पलाल में हार्ट, ब्रेन और न्यूरो संबधी बीमारियों का इलाज होता है. 

दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस संबंध में जीबी पंत हॉस्पिटल को आदेश दिए हैं. दिल्ली के जीबी पंत में अन्य राज्यों से बहुत से लोग इलाज के लिए आते हैं. इसी वजह से दिल्ली वालों को यहां इलाज में दिक्कत होती है. सरकार के इस फैसले से दिल्ली के जीबी पंत में रेफर करे गए मरीजों को बड़ी राहत मिलेगी.

दिल्ली सरकार के अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में बाहर से आने वाले मरीजों की वजह से दिल्ली में रहने वाले स्थानीय नागरिकों को दिल्ली के अस्पताल में बेड नहीं मिल पाते हैं. दिल्ली के सरकारी अस्पताल यहां रहने वालों के लोगों के टैक्स से चलते हैं. ऐसे में इलाज का पहला हक उनका होना चाहिए.

हम आपको बता दें कि दिल्ली सरकार के अंदर 40 सरकारी अस्पताल आते हैं. हालांकि सरकार का ये फैसला दिल्ली के किसी और अस्पताल में लागू नहीं होगा. दिल्ली के जीबी पंत में एक साल में ओपीडी में 3 लाख मरीज इलाज के लिए आते हैं.

दिल्ली में 2015 में सरकार बनाने के बाद आम आदमी पार्टी ने हेल्थ सेक्टर में कई बदलाव किए हैं. दिल्ली सरकार राजधानी में रहने वाले लोगों को चुनिंदा निजी अस्पतालों में भी मुफ्त दवाइयों के साथ मुफ्त में एमआरआई और सीटी स्कैन कराती है. ये सुविधा उन मरीजों को मिलती है जिन्हें दिल्ली के सरकारी अस्पताल में लंबे समय तक इलाज के लिए इंतजार करना पड़ता है.

First published: 15 December 2017, 13:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी