Home » दिल्ली » Kisan Kranti Padyatra: Naresh Tikait says Why have we been stopped here, If we don't tell our government, Do we go to Pakistan
 

पुलिस लाठीचार्ज से किसानों में गुस्सा, बोले- सरकार को अपनी समस्या न बताएं तो क्या पाकिस्तान जाएं

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 October 2018, 13:06 IST
(ANI twitter)

भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसान क्रांति यात्रा लेकर हजारों किसानों का काफिला मंगलवार को दिल्ली बॉर्डर पर पहुंच चुका है. किसानों के काफिले को गाजीपुर बॉर्डर पर रोक दिया गया. किसानों के काफिले को दिल्ली में प्रवेश करने से रोकने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. इस दौरान पुलिस और किसानों के बीच झड़प हो गई.

पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले छोड़े. पुलिस लाठी चार्ज के दौरान कई किसानों घायल हो गए हैं. एक किसान को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. किसान संघठन ने पुलिस के इस लाठीचार्ज की आलोचना की है. किसान नेताओं का कहना है कि पुलिस ने गांधी जयंती के दिन भूखे किसानों पर लाठी बरसाईं.

एएनआई की खबर के मुताबिक, भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि हमको दिल्ली यूपी बॉर्डर पर किस लिए रोका गया है. रैली शांतिपूर्ण तरीके से आगे बढ़ रही थी. अगर हम अपनी समस्या सरकार को नहीं बताएंगे तो किससे कहेंगे. क्या हम पाकिस्तान या बांग्लादेश में चले जाएं.

आजतक की खबर के मुताबिक, किसान संघर्ष समिति के संयोजक दुष्यंत नागर ने कहा किसानों पर लाठियां बरसाना डायर जैसा काम है. किसान कभी कानून नहीं तोड़ते. हमारी मांगें सरकारें नहीं सुनती इसलिए हम दिल्ली जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारी मांगे जारी रहेंगी. लेकिन हम किसी हिंसा का सहारा नहीं लेंगे. पुलिस भूखे किसानों पर लाठी बरसा रही है. आंसू गैस के गोले दाग रही है.

आज के दिन किसानों पर लाठीचार्ज को देखकर स्वर्ग में गांधी की आत्मा क्या कर रही होगी कि जो किसान देवता जमीन का सीना चीर कर आपके लिए अन्न पैदा करता है, उसको आज ही लाठियों से मारना था. उन्होंने पुलिस के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है. 

ये भी पढ़ें-  दिल्ली में महासंग्राम: सरकार के खिलाफ किसानों की 'क्रांति पदयात्रा', कई इलाकों में धारा 144 लागू

First published: 2 October 2018, 13:07 IST
 
अगली कहानी