Home » दिल्ली » Metro Fair can reduce, DMRC proposed bio metric system for fare rebate to students and senior citizens
 

सीनियर सिटीजन और छात्रों के लिए खुशखबरी, दिल्ली मेट्रो के किराये में इस सिस्टम से मिलेगी छूट

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2018, 10:41 IST

दिल्ली मेट्रो छात्रों और सीनियर सिटीजन के लिए बायोमेट्रिक सिस्टम लाएगी. जिससे कि भविष्य में इन्हें किराये में छूट मिल सके. हालांकि 'दुरुपयोग' को रोकने के लिए अब तक दिल्ली मेट्रो के लिए रिबेट या डिस्काउंट की सिफारिश नहीं की गई है.

इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक मंगू सिंह ने कहा की बायोमेट्रिक टेक्नोलॉजी को तैयार किया जा रहा है. जिससे रियाती दरों को लेकर कोई परेशानी न हो.

केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी के सामने ये प्रस्ताव तैयार किया गया था. जिससे की छात्रों और बुजुर्गों को किराये में छूट दी जा सके. सिंह ने कहा की अक्टूबर 2017 में ही फेयर फिक्सेशन कमेटी Fare Fixation Committees (FFC) के सामने किराया कम करने की बात आयी थी, लेकिन ये प्रस्ताव दिल्ली मेट्रो में दुरूपयोग के डर से पारित नहीं किया जा सका. मौजूदा तकनीकि से सामान्य सफर और छूट के अंतर्गत आने वाले यात्रिओं को पहचानना मुश्किल है.

ये भी पढ़ें- अब मात्र 2 रुपये में मिलेगा इंटरनेट डेटा, ये है TRAI का नया प्लान

सिंह ने कहा की स्मार्ट कार्ड एग्जिट गेट पर ये पहचान कैसे करेगा की इस यात्री को किराये में छूट देनी है या नहीं? ये बात जब मंत्री हरदीप सिंह पुरी को कही गयी तो उन्होंने इसके लिए टेक्निकल समाधान पूछा और कहा कि अगर FFC किराये में छूट का दोबारा प्रस्ताव लाती है तो उसके लिए टेक्नोलॉजी भी होनी चाहिए जिससे कि दुरुपयोग रोका जा सके.

'अब इस समस्या के लिए एक टेक्नोलॉजी है. हमें ये नहीं पता की वाक़ई क्या करना है पर ये तो तय है की इस समस्या का हल है. हो सकता है बायोमेट्रिक व्यवस्था काम करे. इसके लिए स्टेशन पर अलग से एग्जिट होंगे जो की व्यक्ति पहचान के बाद खुलेंगे.'

ये भी पढ़ें- RBI ने रोक दिया इन दो महिला बैंकरों का करोड़ों का बोनस, ये है वजह

सिंह ने कहा, 'कई देशों में मेट्रो की ऐसी व्यवस्था मौजूद है .कई विकसित देशों में इस तरह की एक ऐसी व्यवस्था थी और इस बात पर बल दिया कि इसकी सफलता लोगों की ईमानदारी पर निर्भर थी. जैसा की जापानी सोसाइटी, आप वहां के लोगों से बेईमानी की उम्मीद नहीं कर सकते.'

First published: 7 April 2018, 10:41 IST
 
अगली कहानी