Home » दिल्ली » On Note ban issue Arun shourie says if you jump in well, it's also revolutionary stape
 

नोटबंदी पर शौरी का निशाना- 'कुएं में कूदना भी क्रांतिकारी और बड़ा कदम होता है'

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 November 2016, 11:44 IST
(पीटीआई)

अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री रहे पूर्व विनिवेश मंत्री अरुण शौरी ने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले की कड़ी आलोचना की है.

शौरी ने 500 और 1000 रुपये के नोटों पर प्रतिबंध लगाने के सरकार के फैसले को निराशाजनक बताया है. उन्होंने कहा, "इसका उद्देश्य अच्छा हो सकता है, लेकिन इस सुझाव पर ठीक से विचार नहीं किया गया."

समाचार चैनल एनडीटीवी के साथ बातचीत में शौरी ने कहा कि सरकार ने जिस 85 फीसदी भारतीय मुद्रा को हटाने के लिए ये कदम उठाया था, उससे उपजने वाली इन समस्‍याओं का अनुमान नहीं लगाया गया था.

उन्‍होंने कहा, "छोटे और मध्यम उद्यमों, परिवहन क्षेत्र, पूरा कृषि क्षेत्र सहित छह लाख गांवों तक नहीं पहुंचा जा सकता."

इसके साथ ही उन्‍होंने कहा, "उन्‍होंने इस बारे में नहीं सोचा? यह एक बड़े विचार से दूर किया जा रहा है, एक आत्म-छवि में हो रहा है कि मुझे कुछ सर्जिकल स्‍ट्राइक करना है."

जब उनसे पूछा गया कि क्‍या यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का क्रांतिकारी कदम था. इस प्रश्न पर उन्‍होंने कहा, "कुएं में कूदना भी क्रांतिकारी और बड़ा कदम होता है, खुदकुशी करना भी क्रांतिकारी कदम होता है."

पूर्व मंत्री शौरी ने कहा, "उन्‍हें नहीं लगता कि नोटबंदी का कदम कालाधन या करमुक्‍त धन की समस्‍या से निजात दिला पाएगा. जो लोग काला धन या काली संपत्ति रखते हैं, वे उसे कैश में नहीं रखते. वे अपना धन गद्दे के नीचे रखने नहीं जा रहे. वे इन्‍हें विदेशों में रखते हैं और डॉलर में भी नहीं, बल्कि बोरों में रखते हैं."

उन्होंने कहा, "यह संपत्ति, गहनों, शायद अन्य परिसंपत्तियों में हो सकती है, जिसके बारे में हमें नहीं पता, शायद शेयर बाजारों में भी हो सकती है."

First published: 18 November 2016, 11:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी