Home » दिल्ली » Security personnel not allowing Rahul Gandhi to enter RML Hospital to meet family of ex-serviceman
 

राहुल गांधी: नया हिंदुस्तान बन रहा है भैया

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 November 2016, 14:46 IST
(एएनआई)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को दिल्ली के राममनोहर लोहिया अस्पताल में उस वक्त घुसने से रोक दिया गया, जब वह वन रैंक वन पेंशन की मांग को लेकर सुसाइड करने वाले पूर्व सैनिक के परिजनों से मिलने जा रहे थे.

दरअसल हरियाणा के रिटायर्ड फौजी रामकिशन ग्रेवाल सोमवार से दिल्ली के जंतर-मंतर पर अनशन कर रहे थे. सोमवार को उन्होंने अचानक जहर खा लिया, जिसके बाद आरएमएल अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था. जहां इलाज के दौरान रामकिशन की मौत हो गई. 

अस्पताल में सुरक्षाकर्मियों ने घुसने से रोका

राहुल गांधी बुधवार को मृतक रामकिशन ग्रेवाल के परिजनों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे थे, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें अस्पताल में घुसने की इजाजत नहीं दी. इसके बाद राहुल को बैरंग लौटना पड़ा.

राहुल गांधी ने इसको लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है. उन्हें अस्पताल में घुसने से रोकने के कदम को अलोकतांत्रिक बताते हुए राहुल ने कहा, "नया हिंदुस्तान बन रहा है भैया." 

मंदिर मार्ग थाने में राहुल को रखा

अस्पताल में घुसने से रोकने के साथ ही दिल्ली पुलिस ने राहुल गांधी को हिरासत में ले लिया. स्पेशल कमिश्नर एमके मीणा का कहना है, "राहुल गांधी को हिरासत में लेने के बाद मंदिर मार्ग पुलिस थाने में रखा गया है. कामकाज में बाधा डालने के आरोप में उन्हें हिरासत में लिया गया. सुसाइड करने वाले पूर्व सैनिक के परिजनों से मिलने की उन्हें इजाजत नहीं दी गई."

दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर एमके मीणा का कहना है, "यह एक अस्पताल है, कोई प्रदर्शन करने की जगह नहीं है. आम आदमी पार्टी के नेता भी अस्पताल में हंगामा खड़ा करने आए थे."

इस बीच राहुल गांधी को हिरासत में लेने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता भड़क उठे. कार्यकर्ताओं ने मंदिर मार्ग पुलिस स्टेशन के बाहर राहुल को हिरासत में लेने का विरोध करते हुए प्रदर्शन किया. इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता थाने के गेट पर चढ़ गए और जमकर नारेबाजी की.

'राहुल को रोकने की साजिश'

एसीबी चीफ एमके मीणा का कहना है कि किसी भी राजनेता को अस्पताल में घुसने की इजाजत नहीं दी गई है. वह कामकाज में व्यवधान पैदा कर रहे थे. दिल्ली पुलिस ने कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और किरण चौधरी को भी हिरासत में लिया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने राहुल गांधी को पुलिस में लेने पर मोदी सरकार को निशाने पर लिया है. पटेल ने कहा, "पहले दिन से यह सरकार लोकतंत्र विरोधी तरीके से काम कर रही है. राहुल गांधी जहां भी जाते हैं वहां उनको रोकने के लिए यह एक सोची-समझी साजिश है."

'मोदी जी आपको दिक्कत क्या है?'

इससे पहले दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी खुदकुशी करने वाले रामकिशन ग्रेवाल के परिजनों से मिलने के लिए पहुंचे, तो दिल्ली पुलिस ने उन्हें भी इजाजत नहीं दी.

सिसोदिया को भी दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए इस पर गहरी नाराजगी जताई. केजरीवाल ने कहा, "मनीष सिसोदिया को हिरासत में लिया. वह दिवंगत राम किशनजी के परिवार वालों से मिलने के लिए जा रहे थे. वह चुने हुए डिप्टी सीएम हैं. मोदी जी आखिर आपको दिक्कत क्या है? बहुत ज्यादा असुरक्षित?"  

सेना के पूर्व सूबेदार रामकिशन ग्रेवाल हरियाणा के भिवानी जिले के रहने वाले थे. (एएनआई)

हरियाणा के पूर्व फौजी का सुसाइड

दिल्ली में वन रैंक-वन पेंशन की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर धरना दे रहे हरियाणा के एक पूर्व सैनिक ने मंगलवार को खुदकुशी कर ली. मरने वाले पूर्व सैनिक का नाम रामकिशन ग्रेवाल था.

दरअसल मृतक रामकिशन वन रैंक-वन पेंशन मुद्दे पर सरकार के फैसले से संतुष्ट नहीं थे. रामकिशन और उनके कुछ साथी सोमवार से जंतर-मंतर पर धरना दे रहे थे.  

दिल्ली पुलिस के मुताबिक हरियाणा के भिवानी इलाके के रहने वाले रामकिशन वन रैंक-वन पेंशन मुद्दे पर मोदी सरकार के फैसले के खिलाफ थे.

मृतक रामकिशन ग्रेवाल के छोटे बेटे का कहना है, "उन्होंने हमें फोन करके बताया था कि ओआरओपी पर पूर्व सैनिकों की मांगों को पूरा करने में सरकार नाकाम रही है, इसलिए वह खुदकुशी करने जा रहे हैं." 

परिवार वालों का कहना है कि मंगलवार दोपहर को रामकिशन अपने साथियों के साथ रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर से मिलने जा रहे थे. इसी दौरान रास्ते में ही उन्होंने जहर खा लिया.

रामकिशन को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. रामकिशन ने आत्महत्या से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था. दिल्ली पुलिस सुसाइड नोट की जांच कर रही है.

हाल ही में पीएम मोदी जब हिमाचल प्रदेश में दीपावली के दिन जवानों से मिलने गए थे, तो उन्होंने वन रैंक वन पेंशन योजना पर अलम करने के फैसले को केंद्र सरकार की बड़ी उपलब्धि बताया था.

वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे पर रामकिशन ग्रेवाल सोमवार से दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दे रहे थे. (ट्विटर)
First published: 2 November 2016, 14:46 IST
 
अगली कहानी