Home » दिल्ली » Private schools in Delhi will be able to charge only one month's tuition fees: Manish Sisodia
 

दिल्ली के प्राइवेट स्कूल सिर्फ एक महीने की ट्यूशन फीस ले पाएंगे : मनीष सिसोदिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 April 2020, 14:19 IST

Coronavirus Lockdown: दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को एक वीडियो कॉन्फ्रेंस में कहा कि राजधानी की प्राइवेट स्कूलों को कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण केवल एक महीने की ही ट्यूशन फीस लेने की अनुमति होगी. सिसोदिया ने कहा कि “ट्रस्ट निजी स्कूल चलाते हैं और वे मुनाफे के लिए नहीं चलते हैं. मुझे शिकायत मिली है कि कई स्कूलों ने अपनी फीस बढ़ा दी है और कुछ स्कूल अभिभावकों द्वारा फीस नहीं देने पर छात्रों के लिए ऑनलाइन क्लास की सुविधा बंद कर रहे हैं.”

कोरोना वायरस (coronavirus) महामारी के कारण दिल्ली के स्कूल लंबे समय से बंद हैं. दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री ने कहा “सरकार ने फैसला किया है कि राजधानी के किसी भी निजी स्कूल को शुल्क बढ़ाने की अनुमति नहीं दी जाएगी और उन्हें तीन महीने के आधार पर शुल्क लेने की अनुमति नहीं होगी''. सिसोदिया ने कहा कि वे एक महीने की ट्यूशन फीस ले सकते हैं लेकिन ट्रांसपोटेशन और अन्य चार्ज फीस में नहीं ले सकते हैं.


दिल्ली के उप मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी छात्रों को ऑनलाइन एजुकेशन प्रदान की जानी चाहिए और माता-पिता द्वारा फीस का भुगतान नहीं कर पाने की स्थिति में छात्रों का नाम कक्षाओं से नहीं हटाया सकता है. सिसोदिया ने कहा कि सभी प्राइवेट स्कूलों को अपने टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ को वेतन देना होगा, भले ही वे संविदा या गैर-संविदा वाले हों.

सिसोदिया ने कहा वेतन देने के लिए पैसे की कमी को पेरेंट्स एसोसिएशन पूरी करेगा. दिल्ली आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत इन आदेशों का पालन नहीं करने वाले प्राइवेट स्कूलों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. कोरोना वायरस के दिल्ली में 1500 से ज्यादा मामले हैं. दिल्ली के 11 में से 10 जिलों में हॉटस्पॉट एरिया चिन्हित किये गए हैं.

coronavirus: आंकड़े- भारत की 37 फीसदी आबादी कोरोना वायरस हॉटस्पॉट में रहती है

First published: 17 April 2020, 14:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी