Home » दिल्ली » Romanian Cheating People in Delhi Doing ATM Cloning After Learned Google
 

Google से रोमानिया में सीखा खातों से पैसे उड़ाने का तरीका, दिल्ली में आकर दिया अंजाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 February 2019, 12:11 IST

हाल के दिनों में दुनियाभर ऑनलाइन फ्रॉड और एटीएम क्लोनिंग कर बैंक खातों से रुपये निकालने की घटनाएं बढ़ी हैं. ऐसा ही एक मामला दिल्ली के सदर बाजार इलाके में सामने आया है. जहां पुलिस ने पुलिस ने रोमानिया के कुछ लोगों को गिरफ्तार किया है. इन लोगों ने दिल्ली आकर कई लोगों के बैंक खातों से लाखों रुपये चोरी कर लिए. ये लोग एटीएम क्लोनिंग के जरिए वारदात को अंजाम दिया करते थे. इन्होंने एटीएम क्लोनिंग के बारे में गूगल से जानकारी जुटाई थी और दिल्ली आकर फ्रॉड करना शुरु कर दिया था.

दरअसल, सदर बाजार पुलिस ने गुरुवार और शनिवार को रोमानिया के पांच नागरिकों को कालकाजी से गिरफ्तार किया है. आरोपियों में दो महिलाएं भी शामिल हैं, जिनका काम एटीएम बूथ में स्किमर और कैमरा लगाना था. डीसीपी नुपूर प्रसाद ने बताया कि गुरुवार को एक युवक ने सदर बाजार स्थित IDNBI बैंक के एटीएम बूथ में स्कीमर लगा देखा. उसके बाद उसने इसकी सूचना बैंक अधिकारियों को दी. बैंक अधिकारियों ने इस बात की सूचना पुलिस को दी. उसके बाद सदर बाजार पुलिस ने एटीएम बूथ में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली.

जिसमें एक फुटेज में दो विदेशी युवतियां दिखाई दीं, जो स्किमर और कैमरा लगा रही थीं. दोनों ने अपने चेहरे ढक रखे थे. इसके बाद मुखबिरों की सूचना पर पुलिस ने गुरुवार को आरोपी इरिना और एलिसाबेटा को उस समय दबोच लिया, जब वह दोबारा उसी एटीएम में आईं. पुलिस ने शनिवार को उनके साथी कोस्टाशे इन्ना, लेवतरु लोन और निस्टर लिए को भी गिरफ्तार कर लिया.

बता दें कि ये पांचों आरोपी करीब एक महीने पहले रोमानिया से दिल्ली आए थे. इसमें से कुछ पर्यटक और बाकी मेडिकल वीजा पर दिल्ली आए थे. इन्होंने कालकाजी इलाके में किराए पर एक मकान लिया था. बता दें कि इन लोगों ने एटीएम क्लोनिंग कर धोखाधड़ी करने का तरीका गूगल से सीखा था.

सूत्रों का कहना है कि आरोपियों को गूगल से जानकारी मिली कि विश्व में सर्वाधिक एटीएम भारत में हैं. इसके बाद उन्होंने गूगल से ही जानकारी जुटाई कि दिल्ली के कौन से इलाकों में प्रति एटीएम आबादी का घनत्व अधिक है. इस तरह इन्होंने सदर बाजार, चांदनी चौक, जामा मस्जिद, मालवीय नगर व हौजखास को वारदात के लिए चुना था.

इसके बाद आरोपियों ने दिल्ली के कुछ स्थानों पर लगे एटीएम को ही स्किमर व कैमरा लगाने के लिए चुना. पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि भारत में विदेशी पर्यटकों की बेहद इज्जत होती है, इसलिए किसी को शक भी नहीं होता और वे आसानी से धोखाधड़ी कर लेते थे.

ये भी पढ़ें- 20 हजार फुट की ऊंचाई पर बंद हो गया विमान का इंजन, जानिए फिर हुआ क्या

First published: 5 February 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी