Home » दिल्ली » These big decisions for LG after the announcement of closure of businesses in Delhi
 

सीलिंग पर कारोबारियों के बंद के बाद एलजी ने लिए ये बड़े फैसले

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 February 2018, 14:07 IST

राजधानी दिल्ली में दुकानों की सीलिंग से परेशान कारोबारियों ने शुक्रवार को दिल्ली बंद का ऐलान किया था. करोबारियों के इस बंद के बाद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने विकास प्राधिकरण (डीडीए) अधिकारियों की बैठक में सीलिंग से राहत देने के लिए कई बड़े निर्णय लिए हैं.

इस बैठक के बाद फ्लोर एरिया रेशियो (एफएआर) में बदलाव को स्वीकृति दी गई है. बारह मीटर चौड़ी सड़कों पर गोदामों को नियमित करने पर भी फैसला लिया गया है.

डीडीए की बैठक में प्रस्ताव पास हुआ कि दिल्ली में एफएआर (FAR)  को बढ़ाकर 350 किया जाएगा. कनवर्ज़न चार्ज जो 10 गुना है वो कम करके दोगुना किया जाएगा और 12 मीटर की सड़कों पर कृषि गोदामों को रेगुलराइज़ किया जाएगा. कन्वर्जन चार्ज पर पेनाल्टी आठ गुना कम की गई है.

दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता और डीडीए सदस्य विजेन्द्र गुप्ता का कहना है कि कारोबारियों के साथ तीन दिन बातचीत होगी और सात फरवरी को फिर बैठक होनी है. उन्होंने बताया कि बैठक में सीलिंग से राहत देने के लिए मास्टर प्लान 2021 में बदलाव पर तीन बड़े फैसलों पर सहमति बनी है. 

इससे पहले डेढ़ महीने से सीलिंग की मार झेल रहे स्पेशल एरिया के व्यापारियों के लिए बड़ी राहत दी गई. अब स्पेशल प्रोविजन एक्ट के अनुसार स्पेशल एरिया में सीलिंग नहीं की जा सकेगी. इसके तहत दिल्ली के शाहजहांनाबाद, सदर बाजार, करोल बाग और पहाड़गंज एरिया में सीलिंग नहीं होगी.

हालांकि, शुक्रवार सुबह से ज्यादातर इलाकों में सीलिंग के विरोध में दुकानें बंद नजर आईं। व्यापारी वर्ग जगह-जगह प्रदर्शन भी कर रहे हैं. वहीं कन्फेडेरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के नेता प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि दिल्ली बंद के तहत अगले 48 घंटे तक तकरीबन 25000 दुकानें बंद रहेंगीं. उन्होंने कहा कि सीलिंग के चलते व्यापारियों-कारोबारियों का बहुत नुकसान हो रहा है.

First published: 2 February 2018, 14:01 IST
 
अगली कहानी