Home » दिल्ली » Traders strike from Rohini to Lajpat Nagar, Shahdara in protest against sealing
 

सीलिंग के विरोध में रोहिणी से लेकर लाजपत नगर, शाहदरा तक जोरदार प्रदर्शन

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 March 2018, 15:30 IST

देश की राजधानी दिल्ली के कई बाजरों में आज सीलिंग के विरोध में ट्रेडर हड़ताल पर हैं. अमर कॉलोनी मार्केट से करोल बाग तक दुकानदारों ने नारे कॉन्फडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) की अगुवाई में नारे लगाए और काले झंडे दिखाकर विरोध प्रदर्शन किया. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सर्वदलीय बैठक की. हालांकि, इस बैठक में बीजेपी नेताओं ने हिस्सा नहीं लिया.

दक्षिण दिल्ली के लाजपत नगर के ओल्ड डबल स्टोरी बाजार में हाल ही में 350 दुकानों को बंद कर दिया गया था. इस इलाके में आज व्यापारियों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया. सीलिंग के तहत की जा रही कार्रवाई में में अब तक दिल्ली में करीब 4000 हज़ार दुकानें सील हो चुकी हैं. 

 

जिन बाजारों पर बंद का सबसे ज्यादा असर दिखा, उनमे चांदनी चौक, सदर बाजार, भगीरथ पैलेस, खारी बावली, नया बाजार, चावड़ी बाजार, नई सड़क, कश्मीरी गेट, श्रद्धानंद बाजार, लाहौरी गेट, दरियागंज, कनॉट प्लेस, खान मार्केट, करोलबाग, पहाड़गंज, रोहिणी, मॉडल टाउन, शालीमारबाग, पीतमपुरा, पंजाबी बाग शामिल हैं.

क्यों हो रही है दिल्ली में सीलिंग

दिल्ली में सीलिंग की कार्रवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर की जा रही है. इसे पहले तीनों ही एमसीडी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया था. जिसमे कहा गया था कि दिल्ली में अतिक्रमण का जाल फैलता ही जा रहा है. अगर जल्द ही कुछ नहीं किया गया तो हालात और भी ज्यादा खराब हो सकते है. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने एक मॉनिटरिंग कमेटी बनाई. इस कमेटी की ही देखरेख में दिल्ली में सीलिंग की कार्रवाई हो यही है.

हालांकि दिल्ली नगर निगम, डीडीए और केंद्र सरकार में सत्ता पर बीजेपी लेकिन आवास एवं शहरी कार्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इसके लिए बीजेपी और कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है. पूरी ने कहा जिन लोगों ने सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किया हुआ है, उन संपत्तियों के लिए सरकार मदद नहीं कर सकती.

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, शहरी विकास सचिव दुर्गाशंकर मिश्र, डीडीए के उपाध्यक्ष और तीनों निगम आयुक्तों की मौजूदगी में पुरी ने कहा कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी सीलिंग को लेकर हमले कर रही है लेकिन सच यह है कि समस्या उनके कार्यकाल की ही है

First published: 13 March 2018, 15:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी