Home » दिल्ली » Uphaar cinema matter: Sushil Ansal had already undergone his jail sentence
 

उपहार सिनेमा कांड: सुप्रीम कोर्ट ने गोपाल अंसल को एक साल क़ैद की सज़ा सुनाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:39 IST

20 साल पुराने दिल्ली के उपहार सिनेमा कांड में सुप्रीम कोर्ट ने गोपाल अंसल को एक साल कैद की सज़ा सुनाई है. इस मामले में दाखिल रिव्यू पिटीशन पर अदालत ने यह आदेश दिया है. 

गोपाल अंसल चार महीने जेल में काट चुके हैं. यानी अब उन्हें आठ महीने और जेल में बिताने होंगे. एक महीने के अंदर गोपाल अंसल को सरेंडर करना होगा. वहीं सुशील अंसल अपनी जेल की सजा पूरी कर चुके हैं. लिहाजा उन्हें अब जेल नहीं भेजा जाएगा. 

दरअसल सुप्रीम कोर्ट को तय करना था कि अंसल बंधुओं को सजा दी जाए या जुर्माना लेकर जेल की सजा माफ कर दी जाए. सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई और पीड़ितों की पुनर्विचार याचिका पर 14 दिसंबर को सुनवाई पूरी कर ली थी. 

59 लोगों की हुई थी मौत

सीबीआई ने दलील दी थी कि अदालत में अपना पक्ष रखने के लिए उसे मौका नहीं मिला. पीड़ि‍तों की ओर से कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट ने दोनों को केवल जुर्माना लगाकर छोड़ दिया. 

दलील दी गई कि देश के कानून के हिसाब से किसी अपराधी की सजा के साथ जुर्माना ठोका जा सकता है, लेकिन सजा को जुर्माने में तब्दील नहीं किया जा सकता. नवंबर 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में दोषी अंसल बंधुओं को तीन महीने के अंदर 30-30 करोड़ रुपये का जुर्माना अदा करने का निर्देश दिया था. 

सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की बेंच ने उम्र के आधार पर कहा था कि जुर्माना ना देने की हालत में 2 साल जेल की सजा दी जाएगी. सुशील अंसल पांच महीने जबकि गोपाल अंसल चार महीने की सजा काट चुके हैं. दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में स्थित उपहार सिनेमा हॉल में हिन्दी फिल्म ‘बॉर्डर’ के प्रदर्शन के दौरान आग लगने से 59 दर्शकों की दर्दनाक मौत हो गई थी.

First published: 9 February 2017, 12:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी