Home » Education News » CBSE changes its affiliation rules, makes it mandatory for schools to disclose fee structure, HRD minister said
 

CBSE ने लगाई स्कूलों पर लगाम, अभिभावक और बच्चों को दी ये बड़ी राहत

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 October 2018, 16:10 IST

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) से मान्यता प्राप्त स्कूल अब एडमिशन के दौरान निर्धारित फीस ही ले पाएंगे. सत्र के बीच में स्कूल प्रबंधन पेरेंट्स से कोई अतिरिक्त फीस नहीं वसूल कर सकेगा. अभिभावक की दिक्कतों व शिकायतों को दूर करने के लिए सीबीएसई ने एफिलीएशन के नए बायलॉज तैयार किए गए हैं.

इस नए नियम के तहत स्कूल यूनिफार्म और किताबें निर्धारित दुकान से खरीदने के लिए बाध्य नहीं कर सकेंगे. स्कूल यदि इन नियमों का उल्लंघन करते हैं तो CBSE उनकी मान्यता रद्द कर देगा.

गौरतलब है कि ज्यादातर स्कूल एडमिशन के दौरान और सेशन के बीच में बच्चों के माता पिता से जबरन मोटी राशि वसूल करता है यहां तक कि स्कूल ये भी निर्धारित करते हैं कि यूनिफार्म और किताब किस दुकान से खरीदनी है ताकि स्कूल प्रबंधन को कमीशन के रूप में पैसा मिल सके.

गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में संवाददाताओं से बात करते हुए एचआरडी मिनिस्टर जावड़ेकर ने सीबीएसई  एफिलीएशन के नए बायलॉज लागू करने की घोषणा की, उन्होंने कहा सीबीएसई बोर्ड के 20700 स्कूलों में करीब दो करोड़ बच्चे पढ़ते हैं.

अभिभावकों से मंत्रालय को शिकायत मिल रही थी कि स्कूल मैनेजमेंट एडमिशन फीस लेने के बाद सत्र के बीच में अतिरिक्त फीस वसूलते हैं. इसके अलावा यूनिफार्म और किताब निर्धारित दुकान से खरीदने के दबाव बनाते हैं जिससे बच्चों के माता-पिता पर आर्थिक बोझ बढ़ता है.

इन समस्याओं को दूर करने के लिए नए नए नियम बनाए गए हैं. नए नियम में स्कूलों को सीबीएसई बोर्ड से एफिलीएशन की प्रक्रिया आसान और ऑनलाइन की जा रही है. वर्ष 2012 के बाद सीबीएसई एफिलीएशन बायलॉज में पहली बार बदलाव किया जा रहा है. 

First published: 19 October 2018, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी