Home » Education News » Central government HRD proposed panel for JEE Advanced reforms, headed by IIT-Madras director
 

JEE एडवांस परीक्षा में होगा बदलाव, HRD ने दिया समिति गठित करने का प्रस्ताव

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2018, 14:00 IST

केंद्र सरकार ने JEE (Advanced) की समीक्षा के लिए आईआईटी-मद्रास के निदेशक की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय समिति गठित करने का प्रस्ताव दिया है. गौरतलब है कि इस साल JEE प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों की अपर्याप्त संख्या के चलते इस बार IIT संस्थानों में सीट खाली रह गए हैं. मानव संसाधन मंत्रालय ने कम संख्या में क्वालीफाई करने की वजह से JEE (Advanced) परीक्षा में बदलाव हेतु सुझाव देने के लिए कमिटी गठित करने का प्रस्ताव दिया है.

आईआईटी-कानपुर के निदेशक अभय करंदिकर, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के महानिदेशक विनीत जोशी और आईआईटी-बॉम्बे के प्रोफेसर कन्नन मौदगल्य को प्रस्तावित पैनल के सदस्य की सूची में शामिल किया है. यह प्रस्ताव IIT कॉउंसिल के एजेंडे पर आधारित है जो सभी आईआईटी के लिए निर्णय लेने वाला उच्चतम निकाय है. इस समिति की बैठक 21 अगस्त को प्रस्तावित है.

ये भी पढ़ें-आज फिर बढ़ी पेट्रोल और डीजल की कीमतें, जानें अपने शहर का रेट

इस साल, जेईई (उन्नत) के पहले मेरिट लिस्ट  में 18,138 छात्रों ने सफलता प्राप्त की थी जो कि कुल सीटों का केवल 1.6 गुना था. साल 2013 में जब IIT-JEE का नाम बदलकर JEE-Advanced किया गया और प्रवेश परीक्षा के लिए योग्यता मानदंडों को बदल दिया गया था, तो योग्य उम्मीदवारों की संख्या हमेशा कम से कम दो बार सीटों की संख्या थी रहती थी. इस साल सिर्फ 18,138 उम्मीदवारों ने योग्यता सूची में जगह बनाई जो कि साल 2012 से क्वालीफाई छात्रों की संख्या में सबसे कम है.

First published: 19 August 2018, 14:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी