Home » Education News » Corona impact: UP Board reduce the Course by month like CBSE
 

CBSE के बाद अब UP Board भी कम करेगा कोर्स, कोरोना के चलते अभी तक नहीं खुले स्कूल

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2020, 11:13 IST

UP Board reduce the class Course: कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते स्कूल-कॉलेज (School-Collage) अभी तक नहीं खुल पाए हैं ऐसे में अभिभावकों को बच्चों की पढ़ाई (Study) की चिंता बढ़ गई है. क्योंकि स्कूल-कॉलेज देरी से खुलने पर बच्चे कोर्स (Course) को समय पर पूरी नहीं कर पाएंगे जिसका असर उनके परीक्षा परिणामों (Exams Results) पर पड़ेगा. इन्ही सभी बातों का ध्यान रखते हुए उत्तर प्रदेश बोर्ड ने 2020-21 सत्र के दौरान कोर्स कम करने का फैसला लिया है. बता दें कि इससे पहले सीबीएससी भी नौवीं से 12वीं क्लास तक का तीस फीसदी कोर्स कम कर चुका है.

अब उत्तर प्रदेश बोर्ड ने भी इसी तरह का फैसला लिया है. गौरतलब है कि कोरोना के कारण मार्च से ही स्कूलों में पढाई-लिखाई बाधित है. इसे देखते हुए यूपी बोर्ड ने विषय विशेषज्ञों से कोर्स कम करने का प्रस्ताव तैयार कराया है. शासन को भेजे गए प्रस्ताव के अनुसार जुलाई महीने में यदि नियमित कक्षाएं नहीं चलतीं तो कक्षा 9 से 12 तक के पूरे पाठ्यक्रम का 10 प्रतिशत हिस्सा कम किया जाएगा. इसी प्रकार अगस्त में पढ़ाई बाधित होने पर 20 फीसदी और सितंबर तक कक्षाएं चालू नहीं होने पर 30 प्रतिशत कोर्स कम कम कर दिया जाएगा.


Coronavirus: कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों का पता लगाने के लिए भारत में होगा सीरो-सर्वेक्षण

यूपी बोर्ड ने इसी फॉर्मूले के आधार पर विषय विशेषज्ञों की कमेटी से हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत, गणित, विज्ञान, सामाजिक, विज्ञान, भूगोल, जीव विज्ञान, कला, गृह विज्ञान समेत पूरे कोर्स में कटौती करवाते हुए शासन को मंजूरी के लिए प्रस्ताव भेजा है. कोर्स कम करने का फॉर्मूल कुछ इत रह हो सकता है. जैसे जुलाई का नुकसान होने पर कक्षा 10 संस्कृत से तीन पाठ (10 प्रतिशत), अगस्त की पढ़ाई प्रभावित होने की दशा में छह पाठ (20 प्रतिशत) और सितंबर तक पढ़ाई-लिखाई पटरी पर आने की स्थिति में नौ पाठ (30 प्रतिशत) कम किया जाएगा. 2020-21 सत्र की शुरुआत तो एक अप्रैल से ही हो चुकी है, लेकिन यूपी बोर्ड जुलाई से सितंबर तक को आधार बनाकर कटौती करने के पक्ष में है.

Coronavirus update: एक दिन में आये रिकॉर्ड 27,114 नए मामले, जानिए कितने लोग हुए अब तक रिकवर

बता दें कि इससे पहले सीबीएसई ने 9वीं से लेकर 12वीं क्लास तक का 30 प्रतिशत कोर्स कम कर दिया है. इसके अलावा सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं की बची परीक्षाएं भी नहीं हो पाई हैं. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने नए सत्र के लिए सिलेबस में 30 फीसदी की कटौती कर दी थी. जिससे छात्रों पर पढ़ाई का बोझ न पड़े और कम समय में सिलेबस को पूरा कराया जा सके. बीते मंगलवार को सीबीएसई बोर्ड ने नौवीं से लेकर 12वीं क्लास तक के सिलेबस को कम करने वाला करीकुलम जारी किया था.

कोरोना वायरस: WHO ने की मुंबई के धारावी मॉडल की तारीफ, दुनिया से कहा- कोरोना पर कर सकते हैं काबू

First published: 11 July 2020, 11:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी