Home » Education News » Corona Virus: IIT Roorkee Started Studies amid Lockdown in Digital Mode
 

लॉकडाउन के दौरान IIT रुड़की ने ऐसे शुरु की पढ़ाई, जानकर करेंगे तारीफ

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 March 2020, 13:10 IST

IIT Roorkee starts Classes amid Lockdown: पूरे देश में इनदिनों कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है. इसी के चलते देशभर के सभी स्कूल कॉलेजों (School-College) को बंद कर दिया गया है. और सभी तरह की परीक्षाएं (Exams) टाल दी गई हैं. इसी बीच आईआईटी रुड़की (IIT Roorkee) ने क्लास (Classes) शुरु कर दी हैं. लेकिन इन क्लास के लिए स्टूडेंट्स को क्लासों में नहीं आना पड़ रहा है बल्कि स्टूडेंट डिजिटल मोड (Digital Mode) से पढ़ाई (Study) कर रहे हैं. आईआईटी रुड़की छात्रों को इंटरनेट (Internet) के जरिए डिजिटल कंटेंट (Digital content) शेयर कर रही हैं. आईआईटी रुड़की ने ये फैसला छात्रों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसलिए किया है.

संस्थान ने दूरस्थ शिक्षा के तमाम उपाय अपने शिक्षकों को उपलब्ध कराए हैं जिससे कि अध्ययन-अध्यापन कार्य बाधित न हो. विभिन्न वर्गों के छात्रों के विभिन्न पाठ्यक्रम को ध्यान में रखते हुए भिन्न-भिन्न ऑनलाइन माध्यमों से कंटेंट उपलब्ध कराया जा रहा है. संस्थान ने शिक्षकों का कहना है कि वे लाइव वीडियो, इंट्रैक्टिव लाइव वीडियो, पीपीटी, पीपीटी वायस के साथ, वाइस मैसेज या टेक्स मैसेज, पीडीएफ फाइल, डाकुमेंट, और जेपीजी (इमेज) मोड से स्टडी कंटेंट छात्रों तक भेज रहे हैं. जिससे कि स्टडी के कार्य को अधिक से अधिक प्रभावी बनाया जा सके.


आईआईटी रूड़की के डायरेक्टर अजीत चतुर्वेदी का कहना है कि, "डिजिटल कंटेट शेयर करने के लिए जरूरी नहीं है कि यह लाइव ही हो या इंट्रैक्टिव वीडियो हो. कंटेंट के कई प्रकार होने से छात्रों को स्वतंत्रता होगी कि वह किस फॉर्मेट में कंटेट को यूज करना चाहते हैं. छात्रों की सुविधा के अनुसार, चैटिंग, वीडियो चैट, ईमेल आदि का इस्तेमाल कर उनके डाउट्स को क्लियर किया जा सकता है. सेमेस्टर टाइम-टेबल के अनुसार, लाइव क्लासेस का सेशन भी आयोजित किया जाना चाहिए. साथ ही लाइव के दौरान क्लासरूप में होने वाली टीचिंग से गति कुछ धीमी होनी चाहिए."

बता दें कि सभी छात्रों के पास डेली हाईस्पीड इंटरनेट नहीं होता इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए. हालांकि एक बड़ी संख्या के छात्रों को मध्यम गतिवाला इंटरनेट तो मिलता ही है. जिन छात्रों को संस्थान की ओर से पूरा या आंशिक इंटरनेट खर्च मिलता है उन्हें 500 रुपए प्रति माह का रिइंबर्समेंट दिया जाएगा. जिससे छात्रों को बेहतर इंटरनेट सुविधा का लाभ मिल सके. बताया गया है कि नॉर्मल क्लासेस शुरू हो जाने के बाद छात्रों को यह रिइंबर्समेंट दिया जाएगा.

कोरोना वायरस का खौफ: सुपरमार्केट में आई महिला को छींक तो फेंक दिया 26 लाख का सामान

Coronavirus: 2100 से ज्यादा मौतों के बाद भी ट्रंप क्यों नहीं कर पा रहे हैं न्यूयॉर्क को लॉकडाउन

कोरोना वायरस: दुनिया में अब तक 30 हजार से ज्यादा मौतें, इटली में मरने वालों की संख्या दस हजार पार

First published: 29 March 2020, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी