Home » Education News » Delhi University colleges have started 6 skill based voacational undergraduate courses for skill development in the students
 

राहत: DU में 6 नए वोकेशनल कोर्स की शुरुआत, बीच में ब्रेक लेकर भी मिलेगी डिग्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 June 2018, 15:52 IST
delhi universit

दिल्ली यूनिवर्सिटी ने स्किल बेस्ड वोकेशनल कोर्स की पढ़ाई शुरू करने का फैसला किया है. डीयू की कॉलेजों ने स्टूडेंट्स में स्किल डेवलपमेंट के लिए 6 स्किल आधारित अंडर ग्रेजुएट कोर्स की शुरुआत की है. इसकी खासियत ये है कि वॉकेशनल कोर्स कर रहे स्टूडेंट्स 1st ईयर (Diploma) या 2nd ईयर (एडवांस डिप्लोमा डिग्री) के बाद पढ़ाई बीच में छोड़ सकते हैं.

इस वोकेशनल कोर्स को बीच में छोड़ने वाले स्टूडेंट्स को उनके सुविधानुसार कोर्स में वापिस ज्वाइन करने और अपनी डिग्री पूरी करने की छूट भी मिलेगी. वॉकेशनल कोर्स में बैचलर डिग्री प्रोग्राम दिल्ली यूनिवर्सिटी की तीन कॉलेजों द्वारा प्रारंभ किए जा रहे हैं. गौरतलब है कि यह कोर्स यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (UGC) की ओर से तैयार किए गए हैं इसलिए इस कोर्स की मान्यता सभी सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों में दी जाएगी.

ये भी पढ़ें -JEE Advanced: मोदी सरकार देगी स्टूडेंट्स को बड़ी राहत, अब नहीं पूछे जाएंगे कठिन सवाल

इन अलग-अलग कॉलेज में 6 कोर्स की शुरुआत की गई है

कालिंदी कॉलेज में स्टूडेंट्स 2 कोर्स की पढ़ाई कर सकते हैं, जिसमें प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी और वेब डिजाइनिंग शामिल है. जिजस एंड मैरी कॉलेज ने भी रिटेल मैनेजमेंट और हेल्थकेयर मैनेजमेंट के दो कोर्स शुरू किए हैं. वहीं रामानुजन कॉलेज में बैंकिंग ऑपरेशन और सॉफ्टवेयर डवलपमेंट कोर्स करवाए जाएंगे.

पहले या दूसरे साल के बाद कोर्स छोड़ने वाले स्टूडेंट्स वापस कोर्स की पढ़ाई शुरू कर सकते हैं और वे बाद में भी अपनी डिग्री भी पूरी कर सकते हैं. इससे उन छात्रों को सहूलियत मिलेगा जो पढ़ाई से थोड़ा गैप लेना चाहते हैं या किसी कारण से बीच में पढाई छोड़नी पड़ी. सभी कोर्स में 50 सीटें उपलब्ध हैं.

इन वोकेशनल कोर्स के लिए सभी विषयों के स्टूडेंट्स आवेदन कर सकते हैं लेकिन कुछ कोर्स के लिए सिर्फ वैसे उम्मीदवार ही अप्लाई कर सकते हैं जिन्होंने 12वीं में मैथ्स सब्जेक्ट से पढ़ाई की हो. कोर्स में एडमिशन के लिए उम्मीदवारों को सेंट्रल रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरना होगा और एडमिशन कट-ऑफ के आधार पर जारी किए जाएंगे. इन कोर्स में अकेडमिक नॉलेज के साथ संबंधित क्षेत्र की प्रेक्टिकल नॉलेज भी दी जाएगी ताकि कोर्स के बाद रोजगार मिलने में समस्या का सामना नहीं करना पड़े.

First published: 16 June 2018, 15:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी